युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

21 नवंबर 2014

पत्रकारों ने की खट्टर सरकार तथा हरियाणा पुलिस के खिलाफ नारेबाजी

डबवाली (लहू की लौ) बरवाला में पत्रकारों के साथ बदसलूकी पर मीडिया जगत में हरियाणा सरकार तथा हरियाणा पुलिस के खिलाफ गुस्सा चरम पर है। वीरवार को प्रैस क्लब डबवाली के सदस्यों ने काला दिवस मनाते हुये लघुसचिवालय में इक्ट्ठे होकर हरियाणा सरकार तथा पुलिस के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की।
ज्ञापन सौंपा
इस मौके पर पत्रकारों ने उपमंडलाधीश सतीश कुमार को राष्ट्रपति, प्रदेश के राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपे। ज्ञापन में कहा गया कि सतलोक आश्रम आपरेशन केदौरान पत्रकारों पर एक योजनाबद्ध ढंग से अत्याचार एक स्वस्थ्य लोकतंत्र पर गहरा आघात है। जिसे किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जा सकता। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारिता पर डंडे के जोर पर की गई उक्त कार्यवाही में कई पत्रकार घायल हो गए। जोकि स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार पत्रकारों पर सामूहिक अत्याचार हुआ है। मौजूदा सरकार व पुलिस प्रशासन ने अपनी नाकामी पर पर्दा डालने के लिए पत्रकारों से मारपीट व उनका सामान तोडना हर नजर से निंदनीय है। बरवाला प्रकरण में पत्रकारों पर हुये अत्याचार में शामिल हरियाणा पुलिस के अधिकारियों व कर्मचारियों पर तुरंत सख्त कानूनी कार्यवाही की जाये।
एसडीएम ने दिया आश्वासन
इस मौके प्रैस क्लब के सरप्रस्त जयमुनी गोयल, सरप्रस्त फतेह सिंह आजाद, सरप्रस्त विजय वढेरा व सरप्रस्त एच.एम.ओसवाल, अध्यक्ष इकबाल शांत, वरिष्ठ उपाध्यक्ष महावीर सहारण, उपाध्यक्ष नछत्तर सिंह बोस, अनुशासन समिति के अध्यक्ष वासदेव मैहता व सचिव डीडी गोयल, डॉ. राजकपूर, कोषाध्यक्ष डा. सुखपाल, बलवीर लखोत्रा, गुरविंद्र पन्नू मौजूद थे। उपमंडलाधीश सतीश कुमार ने पत्रकारों को भरोसा दिलाया की ज्ञापन को आगामी कार्यवाही हेतू उच्च अधिकारियों को प्रेषित किया जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: