युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

21 नवंबर 2014

एक घंटा झाडू लगाकर स्वच्छता का संदेश दे रहे एसडीएम सतीश कुमार

डबवाली (लहू की लौ) कामचोर कर्मचारियों तथा लोगों को स्वच्छता का संदेश डांट, फटकार या फिर कानून से नहीं झाडू से दिया जा सकता है। गांधीवादी सोच के साथ शहीद ए आजम भगत सिंह के आदर्शों पर चलने वाले एसडीएम सतीश कुमार यही कर रहे हैं। वीरवार को एसडीएम ने गंदगी के बीच एक घंटा तक झाडू चलाई। एसडीएम को यह करता देख कर्मचारियों से रहा नहीं गया। एक कर्मचारी एसडीएम के पास जाकर बोला, साहब! अब हमें शर्मिंदा न कीजिए। झाडू मुझे दीजिये। मैं लगाता हूं।
वीरवार को एसडीएम सतीश कुमार ने वाल्मीकि चौक से स्वच्छता अभियान की शुरूआत की थी। पंजाब नेशनल बैंक से नई अनाज मंडी रोड़ पर रेलवे बाऊंड्री में पहुंचकर एसडीएम ने झाडू पकड़ ली। नई अनाज मंडी के दुकानदार एचसीएस को ऐसा करता देख चकित हो उठे। एसडीएम ने दुकानदारों के आगे हाथ जोड़कर स्वच्छता का संदेश दिया। साथ में अतिक्रमण हटाने के लिये भी अनुरोध किया। कबीर चौक से होते हुये एसडीएम जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यालय के पड़ौस में बने कूड़ा घर पर पहुंचे। डस्टबिन होने के बावजूद कूड़ा बिखरा होने पर एसडीएम नगर परिषद, मार्किट कमेटी तथा जनस्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की उपस्थिति में अकेले ही झाडू लेकर कूड़ा घर में कूद गये। एसडीएम को झाडू लगाता देख जनस्वास्थ्य विभाग के एसडीई संकेत शर्मा ने गंदगी एकत्रित करने के लिये कस्सी उठा ली। जिसके बाद जेई सतपाल रोज, लोक संपर्क विभाग के प्रताप सिंह, नगर परिषद के सफाई निरीक्षक अविनाश सिंगला, एसडीएम के गनमैन राजपाल तथा समाजसेवी वियोगी हरि शर्मा सहित उपरोक्त विभागों के कर्मचारी भी खुद को रोक नहीं पाये।
करीब एक घंटा तक एसडीएम झाडू लगाते रहे। उनका साथ देते हुये एसडीई गंदगी को एकत्रित करके डस्टबिन में डालते गये। इसी दौरान साईड में खड़ा एक कर्मचारी भागकर एसडीएम के पास गया। कर्मचारी बोला साहब! अब हमें शर्मिंदा न कीजिए। झाडू मुझे दीजिये। मैं लगाता हूं। जिस पर एसडीएम ने स्वच्छता का संदेश देते हुये झाडू उसे पकड़ा दी। तीनों विभागों के कर्मचारियों की मेहनत से कुछ ही देर में पूरा क्षेत्र चकाचक हो गया।
डस्टबिन में डालें कूड़ा
एसडीएम ने लोगों से आह्वान किया कि वे घरों व दुकानों का कूड़ा कर्कट डंपिंग स्टेशन पर रखें। कूड़ादान में ही डाले ताकि पशु कूड़ा कर्कट को इधर उधर न बिखेरें। कूड़ादान में डाला गया कूड़ा कर्कट को मशीन सीधे ही कूड़ादान को उठा कर ट्राली में डाल देती है। उन्होंने सफाई कर्मचारियों को प्रतिदिन नियमित रूप से सफाई करने की सलाह दी। दुकानदारों की शिकायत पर संज्ञान लेते हुये एसडीएम ने पब्लिक हेल्थ कार्यालय के पास टॉयलेट बनाकर देने की बात कही। उन्होंने लोगों से कहा कि आप सभी मिलकर एक कमेटी का गठन करें, जोकि टॉयलेट की देखरेख व साफ सफाई की जिम्मेदारी ले। घर के मुखिया को चाहिये कि वे परिवार के सदस्यों को स्वच्छता के बारे में जागरूक करे।

कोई टिप्पणी नहीं: