युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 मार्च 2010

विकलांग बच्चों के लिए 43 स्कूलों में बनेंगे रैंप

डबवाली (लहू की लौ) जिला के सरकारी स्कूलों में पढऩे विकलांग बच्चों की सुविधा को मद्देनजर रखते हुए जिला में 2 लाख 79 हजार रुपए की राशि खर्च करके 43 स्कूलों में रैंप बनवाएं जाएंगे।

यह जानकारी देते हुए विभागीय प्रवक्ता ने बताया कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत पूरे प्रदेश में 774 सरकारी स्कूलों में रैंप की व्यवस्था करवाने की योजना है। इस योजना के तहत प्रदेश के सरकारी स्कूलों में 50 लाख रुपए की राशि खर्च की जा रही है। सबसे अधिक राशि सोनीपत जिला में 5 लाख 73 हजार, हिसार जिले में 4 लाख 42 हजार, भिवानी में 3 लाख 96 हजार, फरीदाबाद में 3 लाख 65 हजार तथा सिरसा जिला में 2 लाख 79 हजार की राशि खर्च की जाएगी। उन्होंने बताया कि रैंप बनवाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा चयनित प्रत्येक स्कूल में 6500 रुपए की राशि खर्च की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत सरकारी उच्च विद्यालयों, माध्यमिक तथा प्राथमिक विद्यालयों को शामिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्राथमिकता के आधार पर स्कूलों में रैंप बनवाए जाएंगे अर्थात जिन स्कूलों में ज्यादा जरुरुत है उनमें रैंप बनवाने का कार्य पहले किया जाएगा। जो स्कूल शेष रह जाएंगे उनके लिए आगामी सत्र मेंऔर अधिक राशि स्वीकृत की जाएगी।
उन्होंने बताया कि जिन स्कूलों में शारीरिक रुप से विकलांग बच्चें पढ़ते है और जो ट्राई साईकिल पर स्कूल आते है, स्कूल के कमरों का लैवल ग्राउंड से ऊंचा होने के कारण इन बच्चों की ट्राई साइकिलें कमरों के द्वार तक नहीं पहुंच पाती जिससे विकलांग बच्चों को जमीन पर चलकर कक्षाओं तक पहुंचना पड़ता है। इस समस्या को दूर करने के लिए हरियाणा प्राथामिक शिक्षा परियोजना परिषद ने स्कूलों में रैंप बनाने की स्वीकृति दी है।

कोई टिप्पणी नहीं: