युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 मार्च 2010

अग्निकांड पीडि़तों के लिए मुआवजा राशि घोषित करना इनेलो के संघर्ष की जीत

डबवाली (लहू की लौ) प्रदेश सरकार द्वारा अग्निकांड पीडि़तों के लिए मुआवजा राशि जारी करने के कदम को इनेलो के संघर्ष की जीत बताते हुए इनेलो नेताओं ने विधायक अजय सिंह चौटाला का आभार जताया है।

पूर्व विधायक डॉ. सीता राम, रणवीर सिंंह राणा जिला प्रधान महासचिव इनेलो तथा पूर्व अध्यक्ष नगर सुधार मंडल डबवाली, दर्शन मोंगा, सतपाल महाश्य, पार्षद सुखमन्दर सिंह सरां, हरबन्स लाल भीटीवाला, मदन लाल गुप्ता, सुभाष मित्तल पार्षद, डॉ. ओमप्रकाश सचदेवा, मल्ली ग्रोवर, ओमकार गोयल, मलकीत सिंह सूच, सुरेन्द्र छिन्दा पार्षद, बिल्लू जुनेजा, नसीब गार्गी, अशोक सिंगला, अजनीश कैनेडी ने संयुक्त रूप से कहा कि लगभग तीन माह पूर्व उच्च न्यायालय ने अपने महत्वपूर्ण फैसले में प्रदेश सरकार को निर्देश जारी किये थे कि अग्निकांड पीडि़तों को तयशुदा मुआवजा राशि प्रदान करे। परन्तु प्रदेश सरकार ने जनभावनाओं की अनदेखी करते हुए उच्चतम न्यायालय में जाने की तैयारी करके अग्निकांड पीडि़तों के जख्मों को कुरेदने का काम किया। इस बारे में जब स्थानीय विधायक अजय सिंंह चौटाला को जानकारी मिली तो उन्होंने लोकतांत्रिक प्रक्रिया अपनाते हुए अग्निकांड पीडि़तों के लिए संघर्ष का बिगुल बजा दिया।
इनेलो नेताओं ने आगे कहा कि अजय सिंह चौटाला ने कार्यकर्ताओं के साथ अग्रिकांड पीडि़तों के लिए धरना दिया और उपमण्डलाधीश की मार्फत राज्यपाल को एक ज्ञापन भेजकर सरकार को उच्चतम न्यायालय में जाने से रोकने का आग्रह किया था। परिणाम स्वरूप प्रदेश सरकार को उच्चतम न्यायालय में अपील करने की हठधर्मिता छोड़कर मुआवजा राशि जारी करने के लिए विवश होना पड़ा। नेताओं ने कहा कि अगर कांग्रेस सरकार ने मानवीय भावनाओं को समझती तो उच्च न्यायालय का फैसला होते ही राशि जारी कर देती। उन्होंने मांग की कि प्रदेश कांग्रेस सरकार को अग्निकांड पीडि़तों को अन्य प्रमुख मांगों जैसे सरकारी नौकरी प्रदान करना, बर्न यूनिट स्थापित करने जैसी मांगों को तुरन्त प्रभाव से स्वीकार कर लेना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि अजय चौटाला ने डबवाली अग्निकांड के शहीदों की पुण्यतिथि पर पांच पीडि़त परिवारों को नौकरी देने की घोषणा करके तीन को तो नौकरी दे दी है।

कोई टिप्पणी नहीं: