युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

17 नवंबर 2014

वार्ड बंदी के बाद बढ़ी राजनीतिक गतिविधियां

डबवाली (लहू की लौ) वार्ड बंदी के बाद राजनीतिक दलों की गतिविधियां बढ़ गई हैं। बेशक चुनाव वर्ष 2015 में होना प्रस्तावित है। लेकिन इनेलो, कांग्रेस अभी से सक्रिय हो गई है। दोनों पार्टियों के साथ-साथ इस बार भाजपा भी उत्साह के साथ मैदान में उतरने जा रही है। तीनों राजनीतिक दलों ने योग्य उम्मीदवार के लिये कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलनी शुरू कर दी है।
शहर में कांग्रेस ने दर्ज की थी जीत
इस वर्ष हुये विधानसभा चुनाव में डेरा प्रेमियों के भरपूर समर्थन के दम पर भाजपा को 9057 मत मिले थे। इसके बावजूद कांग्रेस को 10057 मत मिले थे। 4710 मत लेकर इनेलो तीसरे नंबर पर रही। नगर परिषद चुनाव से पूर्व विधानसभा चुनाव में शहर से सामने आये आंकड़ों को तीनों राजनीतिक दल साथ लेकर चल रहे हैं। पिछले दिनों कांग्रेस नेता डॉ. केवी सिंह ने कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर उन्हें आगामी नगर परिषद चुनाव के लिये तैयार रहने के निर्देश दिये थे। वहीं इनेलो तथा भाजपा ने गुपचुप तरीके से तैयारी शुरू कर रखी है। केंद्र तथा प्रदेश में सरकार बनने के बाद भाजपा खेमा नगर परिषद चुनावों का उत्सुकता से इंतजार कर रहा है। चेहरों की पहचान की जा रही है।
पहली बार होने हैं नगर परिषद चुनाव
कुछ समय पहले नगर निकाय विभाग ने डबवाली नगरपालिका को नगर परिषद का दर्जा दिया था। जिसके बाद वर्ष 2015 में पहली बार नगर परिषद के लिये चुनाव होगा। हालांकि विभाग ने नोटिफिकेशन करके नगर परिषद चेयरमैन का पद एससी के लिये रिजर्व किया है।
शहर की कुल आबादी 50390 : नगर परिषद चुनाव से पूर्व पार्टियां जातिगत समीकरणों का भी ख्याल कर रही हैं। चूंकि कई ऐसे वार्ड हैं, यहां एससी, बीसी के साथ-साथ सामान्य श्रेणी की आबादी एक जैसी नजर आ रही है। शहर की कुल आबादी 50390 में से 49.89 प्रतिशत सामान्य, 33.68 प्रतिशत एससी तथा 16.43 प्रतिशत बीसी श्रेणी की आबादी है।

कोई टिप्पणी नहीं: