युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

29 दिसंबर 2014

मैं मारती रही, जब तक वह मर नहीं गया

रणजीत मर्डर केस में पत्नी का कबूलनामा
डबवाली (लहू की लौ) गांव गंगा में अपने पति को मौत के घाट उतारने वाली महिला का कबूलनामा सुन पुलिस के रोंगटे खड़े हो गये। आरोपी ने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कबूलते हुये कहा कि साहब, मैंने ही अपने पति का कत्ल किया है। अगर मैं उसे न मारती तो उस दिन वह मुझे जान से मार देता। दोनों में से किसी एक ने मरना था। मुझे अपने किये पर पछतावा नहीं।
यूं शुरू हुआ विवाद
अपने पति रणजीत सिंह की हत्या के आरोप में पकड़ी गई हरदीप कौर ने पुलिस के समक्ष खुलासा किया कि करीब एक वर्ष पूर्व उसके बेटे काला ने जहरीला पदार्थ गटकर अपनी जान दे दी थी। जिसके बाद उसका पति शराबी हो गया। शराब के नशे में वह उससे लड़ाई-झगड़ा करने लगा। उसके एतराज करने पर वह उसे पीटता था। लेकिन वह अपनी पंद्रह वर्षीय निशक्त बेटी अमन के खातिर सबकुछ सह रही थी।
शराब के नशे में आकर पीटना शुरू किया
हरदीप कौर ने बताया कि 25/26 दिसंबर की रात को करीब 11 बजे रणजीत सिंह घर आया। उसने शराब पी रखी थी। नशे में वह उससे गाली-गलौज करने लगा। नशे में उसने लकड़ी का घोटा उठा लिया। उसकी बाजू पर दे मारा। बाद में उसकी पीठ पर मारा। वह बोला आज मैं तुझे मार दूंगा।
तब तक मारती रही, जब तक वह मर नहीं गया
आरोपी महिला ने पुलिस को बताया कि जान से मारने की धमकी सुनकर उसने रणजीत सिंह से घोटा छीन लिया। रोजाना के विवाद से तंग आकर उसने अपने पति के सिर पर घोटा दे मारा। वह वहीं गिर गया। उसे डर था कि अगर उसने रणजीत सिंह को छोड़ दिया तो वह उसे जान से मार देगा। वह तब तक उसके गले पर घोटा से वार करती रही, जब तक वह मर नहीं गया। उसके मरने के बाद खून से सन चुके कपड़ों को उतारकर संदूक में रख दिया। साथ में वारदात में प्रयुक्त घोटा भी रख दिया। कपड़े बदलने के बाद वह उसे खींचकर चारपाई तक ले आई। अपने पति के शव को बिस्तर में छुपा दिया। सुबह होते उसकी मौत की सूचना दे दी।
पुलिस ने बरामद किये कपड़े तथा घोटा
हरदीप कौर की निशानदेही पर सदर थाना पुलिस ने घर में रखे संदूक से वारदात में प्रयुक्त किया गया घोटा तथा मृतक रणजीत सिंह के खून से सने कपड़े बरामद किये। आरोपी महिला को डयूटी मजिस्ट्रेट परवेश सिंगला की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने महिला से कबूलनामा के संबंध में प्रश्न किये। जिस पर महिला ने अपना उपरोक्त ब्यान दोहाराया।

क्या था मामला
25/26 दिसंबर 2014 की रात को गांव गंगा निवासी हरदीप कौर ने अपने पति रणजीत सिंह की हत्या कर दी थी। अपने जुर्म को छुपाने के लिये उसने सबूत गायब करने का प्रयास किया। मृतक के बड़े भाई जगजीत सिंह ने हत्या का संदेह होने पर शिकायत पुलिस में दी थी। अंतिम संस्कार की तैयारी के दौरान पुलिस शव को उठा ले आई थी। पुलिस ने हरदीप कौर के खिलाफ दफा 302 के तहत मामला दर्ज किया था।

अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेजा
हरदीप कौर ने अपने पति की हत्या का जुर्म कबूला है। हरदीप कौर ने स्वीकारा है कि उसने लकड़ी के घोटा से अपने पति की हत्या की। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने घोटा बरामद कर लिया है। महिला को अदालत में पेश किया गया। अदालत ने 14 दिनों के लिये उसे न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिये।
-बलवीर सिंह, कार्यकारी प्रभारी, थाना सदर, डबवाली

कोई टिप्पणी नहीं: