युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

19 नवंबर 2014

एंबुलेंस में डिलीवरी मामले में तीन दिन के भीतर मांगी रिपोर्ट

डबवाली (लहू की लौ) एंबुलेंस में डिलीवरी होने के मामले में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन सिरसा के डिप्टी सर्जन ने जांच के आदेश दिये हैं। डिप्टी सर्जन ने एसएमओ डबवाली को भेजे अपने पत्र में तीन दिन के भीतर रिपोर्ट करने के लिये कहा है।
प्राथमिक जांच में ईएमटी दोषी : एसएमओ एमके भादू ने बताया कि जांच के संबंध में डिप्टी सर्जन वीरेश भूषण का पत्र मिला है। तीन दिनों के भीतर रिपोर्ट मांगी गई है। प्रथम जांच में यहीं सामने आया है कि ईएमटी उस रोज एंबुलैंस में मौजूद नहीं था। इसकी सूचना उन्होंने टेलीफोन के जरिये डिप्टी सर्जन को दी थी। जांच के दौरान एंबुलैंस चालक, संबंधित ईएमटी के ब्यान दर्ज किये जाएंगे। ब्यानों के आधार पर रिपोर्ट बनाकर भेजी जायेगी।

यह था मामला
15 नवंबर 2014 को गांव सुकेराखेड़ा की आशा वर्कर रेणू को प्रसव पीड़ा होने पर एनएचएम की एंबुलेंस डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेकर आ रही थी। बीच मार्ग में ही आशा वर्कर ने बच्चे को जन्म दे दिया था। उस समय एंबुलेंस में ईएमटी मौजूद नहीं था। जन्म के बाद बच्चे को चिकित्सीय सुविधा न मिलने के कारण बच्चा इंफेक्शन का शिकार हो गया था।

कोई टिप्पणी नहीं: