युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

20 नवंबर 2009

नवोदय विद्यालय में युवा संसद का आयोजन


औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग) जवाहर नवोदय विद्यालय ओढ़ां में विद्यार्थियों ने युवा संसद का आयोजन किया जिसमें मुख्यातिथि के रूप में डबवाली के भूतपूर्व विधायक डॅा. सीताराम मुख्यातिथि के रूप में उपस्थित हुए और अध्यक्षता रानियां के विधायक कृष्ण कंबोज ने की। विद्यालय की ओर से दोनों अतिथियों को पुष्प गुच्छ भेंट करके सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यातिथि डॉ. सीताराम ने मां सरस्वती के समक्ष दीप जलाकर किया और छात्राओं ने सरस्वती वंदना व स्वागतगीत प्रस्तुत करके किया। इस अवसर पर मुख्यातिथि ने अपने संबोधन में कहा कि बच्चों के बहुमुखी विकास के लिए इस प्रकार के कार्यक्रम जरूरी हैं। उन्होंने कार्यक्रम में आमंत्रित करने के लिए विद्यालय का आभार व्यक्त करते हुए विद्यार्थियों को पुरस्कार स्वरूप 2100 रुपए प्रदान किए और रानिया के विधायक कृष्ण कंबोज ने 11000 हजार रुपए प्रदान करने की घोषणा की। अतिथियों का अभिनंदन करते हुए विद्यालय के प्राचार्य डॉ. आरपी शर्मा ने युवा संसद के आयोजन का उद्देश्य बताते हुए कहा कि आज हमारे देश की राजनीति को योग्य, ईमानदार, देशभक्त तथा दूरदृष्टि वाले नेताओं की आवश्यकता है जिसके लिए देश के सभी विद्यालयों में युवा संसद के आयोजन का प्रावधान किया गया है। ऐसा करने से बच्चे विद्यार्थी जीवन से राजनीति में आने को प्रेरित होंगे और देश को सुयोग्य, चरित्रवान तथा दूरदृष्टि वाले राजनेता मिल सकें।
युवा संसद के आरंभ में शपथ ग्रहण, विदेशी प्रतिनिधि मंडल का स्वागत, एक सांसद की मृत्यु पर शोक तथा प्रधानमंत्री द्वारा नवनियुक्त मंत्रियों का सदन से परिचय करवाया गया। इसके बाद प्रश्नकाल में विपक्षी सांसद अनुराधा व अन्य सांसदों द्वारा समसामयिक विषयों पर प्रश्न पूछे गए जिनके उत्तर संबंधित मंत्रियों ने प्रभावपूर्ण ढंग से दिए। शून्यकाल में वीरपाल सिंह ने वित्तमंत्री, अमित ने विदेशमंत्री से प्रश्र पूछे जिसका मंत्रियों ने सटीक उत्तर दिए। हुनरप्रीत कौर ने स्वाइन फ्लू के बारे में ध्यानाकर्षण जिसके जवाब में स्वास्थ्य मंत्री रविकुमार ने सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में इतने प्रभावपूर्ण ढंग से जवाब दिए कि रविकुमार इस कार्यक्रम में प्रथम स्थान मिला। विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव विपक्षी सांसद वीरपाल ने रखा जिस पर जांच का आश्वासन देते हुए महासचिव को विशेषाधिकार हनन समिति को शिकायत भेजने के निर्देश दिए। युवा संसद की अंतिम कड़ी के रूप में विधेयक प्रस्ताव रखा गया जिसमें महिला व बाल विकास मंत्री प्रियंका ने सभी विधायिकाओं में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत सीटों के आरक्षण का प्रावधान करने की मांग की जिसे युवा संसद ने बहुमत से पारित किया। इस प्रकार युवा संसद के माध्यम से बच्चों को संसदीय प्रक्रिया से अवगत करवाने, बच्चों में नेतृत्व के गुण पैदा करने, जनसाधारण के मामलों में अपनी राय बनाने के लिए प्रोत्साहित करने तथा सहनशीलता के साथ सुनने की प्रतिभा का विकास करने का सफल प्रयास किया गया। इस प्रस्तुति हेतु बच्चों को सज्जन कुमार, राजीव शर्मा, हरिओम, वासूदेव व राधेश्याम ने तैयार किया। मंच का संचालन कक्षा नौ की कुमारी प्रतिभा अग्रवाल ने किया। वरिष्ठ शिक्षिका वनिता देवी ने सभी को धन्यवाद दिया। रावमा विद्यालय के प्राचार्य सुभाष फुटेला ने दोनों विधायकों के साथ तीसरे जज के रूप में मूल्यांकन का कार्य किया। जिसमें स्वास्थ्य मंत्री के रूप में रविकुमार को प्रथम, अध्यक्ष के रूप में ममता को द्वितीय व विपक्षी सांसद के रूप में हुनरप्रीत एवं प्रधानमंत्री के रूप में विक्रम बाना को तृतीय स्थान पर रखा गया। अंत में प्राचार्य ने दोनों विधायकों को स्मृृतिचिन्ह देकर सम्मानित किया और राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम सम्पन्न होने की घोषणा की गई। इस अवसर पर भरत सिंह ओढ़ां, एमएचडी कालेज की प्राचार्या शमीम शर्मा, अनेक गणमान्य लोग, समस्त स्टाफ व विद्यार्थी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: