युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

20 नवंबर 2009

कॉटन फैक्ट्री में आग से 40 लाख का नुक्सान, महिलाएं बाल-बाल बची

डबवाली (लहू की लौ) यहां की हरियाणा कॉटन फैक्टरी के दो बैरगों में वीरवार शाम अचानक आग लग गई और वहां काम कर रही 9 मजदूर महिलाएं बाल-बाल बच गईं। जबकि उनकी चप्पलें और कोटियां इस आग में जल गईं।
फैक्टरी के ठेकेदार दीपक गोयल ने बताया कि बाद दोपहर दो बजे अचानक फैक्टरी बैरगों में आग लग गई। इसकी सूचना फायर ब्रिगेड को दी गई और मौका पर पहुंच कर फायर ब्रिगेड ने करीब तीन घंटे के कड़े संघर्ष के बाद आग पर काबू पाया। गोयल के अनुसार इस आग से सारजन के पास पड़ी 300 गांठ रूई प्रभावित हुई है। जिसकी कीमत 40 लाख रूपये है।
इधर फायर बिग्रेड नगरपालिका के लीडिंग फायरमैन श्याम सुन्दर और मार्किट कमेटी के लीडिंग फायरमैन आत्मा राम ने बताया कि उन्हें लगभग 3.55 पर आग की सूचना मिली और तुरन्त उनकी गाडिय़ां मौका पर पहुंची और एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया।
फैक्टरी में बतौर मजदूर काम करने वाली कृष्णा देवी, भागवन्ती, शान्ति, कमला देवी, केसर, लाजो, संतोष, नानकी और मंजू देवी ने बताया कि वह बैरग में बैठी रूई चुग रह थी कि अचानक उन्हें आग ने घेर लिया। वह कूद कर बाहर निकल गईं। लेकिन इस दौरान उनकी चप्पलें और कोटियां वहीं रह गईं जो आग की भेंट चढ़ गईं।
इस घटना की सूचना पाकर मौका पर डीएसपी बलवीर सिंह, थाना शहर प्रभारी वीरेन्द्र सिंह अपने दल-बल के साथ पहुंंचे और घटना का निरीक्षण किया। ज्ञातव्य रहे इन पांच दिनों में इस फैक्टरी में आग लगने की यह दूसरी घटना है।

कोई टिप्पणी नहीं: