युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

05 जून 2011

मुख्यमंत्री बादल के हल्के में छह साल के बच्चे को पोलियो

डबवाली (लहू की लौ) सरकार सालों से पोलियो के खिलाफ अभियान चलाते हुए लाखों रूपए खर्च कर रही है। लेकिन इसके बावजूद भी पोलियो का संदिग्ध मरीज पाए जाने पर सरकार का टीकाकरण के द्वारा बनाया जा रहा पोलियो का सुरक्षा चक्र टूटता हुआ दिखाई दे रहा है।
मण्डी किलियांवाली की चर्च वाली गली में रहने वाले गाड़ी चालक राकेश कुमार के 6 वर्षीय बेटा विष्णु को करीब बीस दिन पूर्व तेज बुखार हुआ था। जोकि बाद में टाईफाईड में बदल गया। लेकिन पिछले 10 दिनों से वह बिल्कुल स्वस्थ था और विद्यालय में भी जाना आरंभ कर दिया था। गुरूवार सुबह अचानक वह लडख़ड़ाते हुए गिर गया। राकेश ने उसे उठाया और पुन: चलने के लिए कहा। लेकिन विष्णु लंगड़ाने लगा। राकेश के अनुसार बुधवार शाम को उसका बेटा बिल्कुल ठीक था। लेकिन आज सुबह चलते हुए अचानक गिर गया। उसके बाद वह अपनी दाईं टांग पर वजन सहन नहीं कर पा रहा। लंगड़ाकर चलते हुए गिरने लगा है।
विष्णु को पोलियो होने के संदेह के चलते यहां के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। यहां बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. सरवन बांसल ने उसकी जांच की। चिकित्सक को उसमें पोलियो के लक्षण प्रतीत हुए। लेकिन मामला पंजाब का होने के कारण उन्होंने उसे पंजाब के जिला श्री मुक्तसर साहिब के हल्का लंबी के अस्पताल में रैफर कर दिया।
बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. सरवन बांसल ने बताया कि छह वर्षीय विष्णु में पोलियो के लक्षण पाए गए हैं। लेकिन पक्के तौर पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। विष्णु साथ लगते पंजाब की मण्डी किलियांवाली का रहने वाला है। इसके चलते उसे लम्बी रैफर कर दिया गया। चिकित्सक के अनुसार इस बारे में पत्र भेजकर हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के जिला सिरसा के अधिकारियों को भी अवगत करवा दिया गया है।
जिला श्री मुक्तसर साहिब के लम्बी में स्थित सरकारी अस्पताल की कार्यकारी एसएमओ डॉ. रीटा गुप्ता ने बताया कि फिलहाल उनके पास ऐसा कोई रोगी नहीं आया है।

कोई टिप्पणी नहीं: