युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

10 अक्तूबर 2009

राजस्व पटवारी रिश्वत लेते पकड़ा गया

श्रीगंगानगर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने इस महीने में भी अपनी कार्यवाहियों की शुरूआत रिश्वतखोर पटवारियों को दबोचने से शुरू की है। जिले के दूरवर्ती रावला कस्बे में आज दोपहर एक राजस्व पटवारी को अपने कार्यालय में एक किसान से पांच हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वर जाट तथा डीएसपी दीक्षा कामरा ने रंगे हाथ पकड़ा। ब्यूरो ने पिछले महीने जिले में तीन पटवारियों को रिश्वत लेते पकड़ा था। आज की कार्यवाही में पटवारी पृथ्वीराज कड़वासरा को एक किसान महेंद्र पुत्र संतराम बिश्नोई निवासी 7 डीओएल (बी) से उसकी जमीन के रिकॉर्ड का दुरूस्तीकरण ओर जमाबंदी की नकल देेने की एवज में 5 हजार रूपये लेते हुए पकड़ा। इस रिश्वत के लिए पटवार पृथ्वीराज ने रावला में खाजूवाला मार्ग पर अपने अस्थाई कार्यालय में प्रात: 11 बजे बुलाया था। जैसे ही रूपये दिये जाने का संकेत मिला, ब्यूरो के दल ने छापा मार दिया। रिश्वत की राशि पटवारी के कुर्ते की जेब में से बरामद हुई। इस कार्यवाही से कस्बे में हड़कंप मच गया। काफी भीड़ जमा हो गई। मौके पर पुलिस को बुलाना पड़ गया था। ब्यूरो के सूत्रों के अनुसार महेंद्र बिश्नोई की कमांड कृषि भूमि की गलती से सरकारी रिकॉर्ड में अनकमांड के रूप में एंट्री हो गई थी। जिला कलक्टर और एसडीएम ने महेंद्र के प्रार्थना पत्र पर सुनवाई करते हुए भूमि का कमांड के रूप में एंट्री करने के लिए दुरूस्तीकरण के आदेश दे दिये थे। इस रिकॉर्ड को दुरूस्त करने की एवज में पटवारी ने दस हजार की रिश्वत मांगी थी। महेंद्र बिश्नोई ने दो हजार रूपये पिछले महीने तथा एक हजार रूपये गत एक अक्टूबर को दे दिये थे। इसके बाद महेंद्र ने पटवारी से गुजारिश की कि वह पांच हजार रूपये और दे पायेगा। आज यह राशि देना तय हुआ था, लेकिन इससे पहले महेंद्र बिश्नोई ने ब्यूरो को शिकायत कर दी। सत्यापन करने पर शिकायत की पुष्टि हो गई। ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वर जाट ने बताया कि पटवारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके चक 11 केपीडी स्थित निवासी तलाशी लेने पर विशेष कुछ नहीं मिला। पृथ्वीराज का रिटायरमेंट वर्ष 2011 में है। उसे कल ब्यूरो की बीकानेर की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: