युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

26 सितंबर 2009

शराफत को इनेलो कमजोरी न समझे-केवी


डबवाली (लहू की लौ) कांग्रेस के हल्का डबवाली से प्रत्याशी डॉ. केवी सिंह ने कहा कि यदि डबवाली हल्का के लोग इनेलो का आतंक समाप्त करना चाहते हैं तो वे कांग्रेस को चुने। वे शुक्रवार को यहां की पुरानी अनाज मण्डी में नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद भारी संख्या में उपस्थित अपने समर्थकों, कांग्रेस कार्यकर्ताओं और आम लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वे शराफत की राजनीति करते आ रहे हैं और शराफत की राजनीति ही करना चाहते हैं। लेकिन विपक्ष इसे कमजोरी न समझे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में जनता की अदालत सबसे बड़ी अदालत है और चुनाव के समय जनता जो फैसला करती है, वह फैसला ही सर्वमान्य होता है। वह जनता से जनता की सेवा के लिए राज की कलम की मांग करता है, अगर जनता उसे यह कलम सौंपती है तो वह लोगों के विश्वास को किसी भी प्रकार से डगमगाने नहीं देगा। इस मौके पर उन्होंने जनता के समक्ष संकल्प लिया कि वे उन द्वारा दी गई कलम का प्रयोग जनहित में ही करेंगे। डॉ. केवी सिंह अपने राजनीतिक जीवन में शायद पहली बार पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला और उनके बेटों के खिलाफ मंच से गरजे हैं। उन्होंने अपनी सिंह गरजना में कहा कि इनेलो के राज-काज में डबवाली क्षेत्र की जनता में इन लोगों ने केवल आतंक फैलाने का काम किया है। यहीं नहीं बल्कि हरिजनों की जमीनों को हथिया कर वहां पर अपने फार्म हाऊस बनाये हैं। अगर किसी ने इसकी जानकारी लेनी है या इसे अपनी आंखों से देखना है तो वह हल्का डबवाली के गांव लम्बी, मटदादू, मौजगढ़, अबूबशहर के हरिजनों से मिलें। उन्होंने यह भी कहा कि जो लोग आज से साढ़े 6 वर्ष तक जनता में आतंक फैलाते थे, अब जनता के मिले उसे आपार सहयोग को देखकर उस (डॉ. केवी सिंह) से ही भय खाने लगे हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि वे अपने घरों पर कांग्रेस का झण्डा लगा दें और उनके बीच में पनपा इनेलो का आतंक स्वयं ही खत्म हो जाएगा। इस अवसर पर कांग्रेसी नेताओं में से ओमप्रकाश हिटलर, संजय हिटलर, संदीप चौधरी, अमित सिहाग, रणजीत सिंह मान, रणजीत सिंह एडवोकेट, गुररतन पाल सिंह किंगरा, कर्मचन्द शर्मा, रामजी लाल, विनोद बांसल, जगसीर मिठड़ी, रविन्द्र बिन्दू, सिम्पा जैन, आर.के. वर्मा, पवन गर्ग, बख्तावर मल दर्दी, इन्द्रजीत सिंह एडवोकेट, जसवन्त बराड़, डॉ. सुरेन्द्र पाल जस्सी, सुखमन्दर सिंह सरपंच शेरगढ़, राकेश वाल्मीकि, गोपाल मित्तल, उषा दहिया, केशव शर्मा, प्रकाश सिंह भाटी पूर्व विधायक बल्लुआना, प्रकाश सिंह बांसल गंगा, राजेन्द्र गर्ग, प्रशान्त गर्ग, दीपक गर्ग बाबा, राकेश गर्ग धुनिका, सुन्दर कण्डा, पवन रैगर, सूरज खटीक आदि उपस्थित थे। इस मौके पर मंच का संचालन चित्रगुप्त छाबड़ा ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: