युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

26 सितंबर 2009

बच्चों को सीखाये प्राकृतिक आपदा से लडऩे के गुर

डबवाली (लहू की लौ) एनडीआरएफ (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल) के जवानों द्वारा आपदा से लडऩे के लिए डबवाली क्षेत्र में पिछले एक सप्ताह से जन जागरण अभियान चला रखा है, जोकि 30 सितम्बर तक डबवाली के विभिन्न क्षेत्रों में चलेगा। इस प्रशिक्षण अभियान का नेतृत्व 27वीं वाहीनी भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल के निरीक्षक प्रशान्त कुमार कर रहे हैं। उनकी टीम ने शुक्रवार को गांव चौटाला के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में स्कूली बच्चों और स्थानीय लोगों को प्राकृतिक व मानवीय आपदाओं से निपटने के लिए प्रशिक्षण दिया और साथ में प्रदर्शन करके भी दिखाया। उपनिरीक्षक राकेश कुमार ने प्रशिक्षण के दौरान बताया कि यदि बाढ़ जैसी स्थिति आ जाती है तो पेट पर टयूब, कैनी या पांच-छह रबड़ की बोतल बांध लेने से बचाव किया जा सकता है। उन्होंने यह भी बताया कि बाढ़ के दौरान संक्रामक बीमारियां फैलने का भय बना रहता है। उससे बचाव किया जाना चाहिए। उन्होंने मौका पर ही इनफलेटबल वोट को तैयार करने का प्रदर्शन किया। निरीक्षक प्रशान्त कुमार ने बताया कि इस अभियान का उद्देश्य लोगों को आपदा के प्रति जागरूक करना और साथ में आपदा प्रबन्धन की जानकारी देना भी है। अन्त में आपदा सम्बन्धी कुछ बुकलेट स्कूली बच्चों और स्थानीय लोगों को वितरित की।

कोई टिप्पणी नहीं: