युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

05 मार्च 2011

वृद्धा का हत्यारा जेल भेजा


डबवाली (लहू की लौ) गांव सांवतखेड़ा में वृद्धा गुरदेव कौर की हत्या के आरोप में गिरफ्तार निक्का उर्फ बोला को एक दिन के पुलिस रिमांड के बाद मंगलवार को उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी महावीर सिंह की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उसे 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिये।
रिमांड के दौरान हत्या आरोपी निक्का ने पुलिस को बताया कि मृतका गुरदेव कौर के भाई जय सिंह स्वामी के पास दिहाड़ी करता था। वह काली का उपासक है। जब भी किसी महिला को देखता है उसे कुछ हो जाता है।  11 फरवरी को खेत से चारा लेने के लिए जा रहा था और उसके आगे जा रही गुरदेव कौर को देख कर उसे कुछ हुआ और उसने धक्का देकर गुरदेव कौर को गिरा दिया।
थाना शहर प्रभारी इंस्पेक्टर बलवन्त जस्सू ने बताया कि बेहोश गुरदेव कौर को निक्का घसीट कर सरसों के खेत में ले गया। उसका इरादा नेक नहीं था। लेकिन रोड़ पर यातायात को देख कर वह भयभीत हो गया। अंगूठे से गला दबा कर गुरदेव कौर की हत्या कर दी और फरार हो गया। पुलिस के अनुसार हत्यारोपी निक्का इससे पहले भी गांव की औरतों से छेड़छाड़ कर चुका है, लेकिन मामला इज्जत का होने के कारण मामलों को गांव में ही निपटा दिया गया। जस्सू ने बताया कि इसका सुराग भी नाटकीय ढंग से लगा जब बार-बार पुलिस दबिश पाकर आरोपी मृतका के भतीजे छिन्द्र सिंह के पास पहुंचा और उससे कहने लगा कि उसने गुरदेव कौर की हत्या करके भूल की है। उसकी इस गलती को किसी प्रकार माफ करवाया जाये और वह अपना अपराध स्वीकार करने को तैयार है। इस पर पुलिस ने निक्का को दबोच लिया और पूछताछ करने के बाद पुलिस के समक्ष उसने अपना आरोप भी स्वीकार कर लिया।
इधर आरोपी निक्का ने इस संवाददाता से बातचीत के दौरान बताया कि दो वर्ष उसकी शादी संगरिया की हरजिन्द्र कौर (20) के साथ हुई। वह पिछले डेढ़ वर्ष से काली माता की उपासना कर रहा है। जब उसमें माता की शक्ति महसूस होती है तो अपनी सुध-बुध खो देता है और उसके पास जो भी आता है उसे धक्का देकर गिरा देता है। ऐसा ही उसने गुरदेव कौर के साथ किया। लेकिन उसका नीयत लूटपाट या बलात्कार की नहीं थी। उसने यह तो स्वीकार किया कि गांव की महिला से छेड़छाड़ का आरोप लगा था, जो झूठा था।

कोई टिप्पणी नहीं: