युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

05 मार्च 2011

फिल्मों में प्रवेश करने के लिए मॉडलिंग इजी-वे


डबवाली (लहू की लौ) मॉडलिंग फिल्मों में प्रवेश करने का इजी वे है। लेकिन मेहनत और लगन के बिना मॉडलिंग भी आसान नहीं। यह कहना है प्रसिद्ध पंजाबी फिल्म हश्र के विलन विक्टर जॉन का।
वे गुरूवार को मण्डी किलियांवाली के नीलकंठ मैरिज पैलेस में एक पंजाबी एलबम की शूटिंग के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 2001 में उन्होंने पंजाबी गीत रस भीनी-भीनी बहा जोगिया.. से मॉडलिंग की दुनियां में प्रवेश किया था। उसके बाद उनके मॉडलिंग में शूट किए गए गीत नैण नैला नाल मिला लीं, बाजी मार गया बठिंडा वाला गबरू काफी हिट हुए। उन्होंने बताया कि मॉडलिंग में युवाओं के लिए आपार संभावनाएं हैं। लेकिन भारतीय समाज मॉडलिंग को पश्चिमी कल्चर की संज्ञा देता है, जबकि ऐसा नहीं है। उनके अनुसार एक मॉडल भारतीय संस्कृति में रहकर भी बुलंदियों को छू सकता है।
प्रसिद्ध पंजाबी फिल्म मिट्टी तथा हश्र में भूमिका निभा चुके विक्टर जॉन जल्द आ रही पंजाबी फिल्म मित्रां दा ना चलदा में मुख्य किरदार की भूमिका में रूपहले पर्दे पर नजर आएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: