युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

23 जनवरी 2011

रिलायंस के खिलाफ ट्रक ड्राईवरों की नारेबाजी, प्रदर्शन


डबवाली (लहू की लौ) बड़ौदा से रिलायंस कंपनी का माल भरकर लुधियाना जा रहे ट्रक पिछले पांच दिनों से डूमवाली बैरियर पर अटके हुए हैं। आरोप है कि रिलायंस ने एंट्री टैक्स का भुगतान नहीं किया है। शनिवार को ट्रक ड्राईवरों का धैर्य जवाब दे गया। ड्राईवरों ने रिलायंस कंपनी के खिलाफ नारेबाजी कर डाली।
ड्राईवर बहादर सिंह, सुखचैन सिंह, बेअंत सिंह, काला सिंह निवासीगण जगरांव (पंजाब), बूटा सिंह निवासी बरनाला (पंजाब) ने बताया कि उन लोगों ने 17 जनवरी को बड़ौदा से लुधियाना के लिए रिलायंस कंपनी का प्लास्टिक का सामान भरा था। प्रत्येक ट्रक में करीब सोलह टन माल की भराई हुई। इस माल को लेकर वे 18 जनवरी को डूमवाली बैरियर पर आ गए। लेकिन बैरियर पर तैनात कर्मचारियों ने उनसे एंट्री टैक्स की मांग की। एक ट्रक का एंट्री टैक्स करीब एक लाख रूपए से अधिक है। पिछले पांच दिनों से वे इस टैक्स बैरियर पर अटके हुए हैं। इस बारे में जब उन्होंने रिलायंस कंपनी के लुधियाना ऑफिस से संपर्क किया तो उन्हें कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला।
ट्रक ड्राईवारों ने आरोप लगाया कि बड़ौदा से लुधियाना करीब 1500 किलोमीटर दूर है। पांच दिनों से एक ही जगह पर रूके होने के कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जेब खर्च अलग से भुगतना पड़ रहा है। ऐसे हालातों में माल पहुंचाने के लिए उन्हें जो भाड़ा दिया गया है, वह बहुत कम है।
इस संदर्भ में जब डूमवाली टैक्स बैरियर के ईटीओ आरएन शर्मा से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि ट्रकों में जो माल है उस पर 8 प्रतिशत एंट्री टैक्स है। बिना एंट्री टैक्स भरे ट्रकों को बैरियर से नहीं गुजरने दिया जाएगा।
इस संदर्भ में जब रिलायंस कंपनी के रीजनल सैंटर लुधियाना के क्लर्क प्रदीप कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने इस बात को स्वीकारा कि एंट्री टैक्स का भुगतान न होने के कारण ट्रक डूमवाली बैरियर पर खड़े हैं। उसे एंट्री टैक्स का भुगतान करने के लिए बिलों को मुंबई से पास करवाना पड़ता है। बिल पास होने के बाद ही एंट्री टैक्स का भुगतान हो सकेगा। जोकि जल्द होने की संभावना है।

कोई टिप्पणी नहीं: