युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

17 दिसंबर 2010

नहीं है ब्लड बैंक, रक्त के लिए दूसरों का मुंह ताक रहे मरीज

डबवाली। युवा रक्तदान सोसाईटी (रजि.) द्वारा 1995 को हुए भीषण अग्निकाण्ड के शहीदों के स्मृति में 23 दिसम्बर को प्रात: 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक श्री अग्रवाल धर्मशाला में 81वां विशाल रक्तदान शिविर लगाया जा रहा है। संस्था के संस्थापक सुरेन्द्र सिंगला ने बताया कि संस्था की एक आवश्यक बैठक 18 दिसम्बर को रात्रि 7 बजे श्री वैष्णों माता मन्दिर में अध्यक्ष राकेश गर्ग भीटीवाला की अध्यक्षता में रखी गई है। जिसमें शिविर की सफलता के लिए गहन विचार-विमर्श किया जाएगा। सिंगला ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग, हरियाणा सरकार द्वारा 20 वर्ष पूर्व यहां स्वीकृत किए गए ब्लड बैंक को आज तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के कारण प्रारम्भ नहीं किया गया। जबकि 1 दिसम्बर, 2005 से प्रारम्भ किए गए ब्लड स्टोरेज सैंटर द्वारा आज तक 2785 यूनिट रक्त जरूरतमंद मरीजों के लिए दिया गया है। सिंगला ने बताया कि यहां सम्पूर्ण ब्लड बैंक न होने के कारण कैंसर, थैलासीमिया, डेंगू से पीडि़त मरीजों को आपातकालीन परिस्थितियों में रक्त लेने के लिए सिरसा एवं बठिण्डा जाना पड़ता है। उन्होनें कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा सम्पूर्ण ब्लड बैंक प्रारम्भ करने की कार्यवाही को जानबूझ कर ठप्प कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा की जा रही इस लापरवाही की जानकारी मुख्यमंत्री चौ. भूपेन्द्र सिंह हुड्डा को 25 दिसम्बर को सिरसा आगमन पर दी जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: