युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 नवंबर 2009

एनआरआई युवती से विवाह रचाकर लाखों गंवाये

श्रीगंगानगर। अमेरिका में रह रही अप्रवासी भारतीय युवती से विवाह रचाकर उसके साथ अमेरिका जा बसने का एक युवक का सपना महज सपना ही रह गया। इस चाह में उसने पुरखों की कृषि भूमि बेचकर बीस लाख रूपये भी गंवा डाले। शादी करने के 9 वर्ष बाद तक यह युवक अमेरिका में अपनी पत्नी के पास नहीं पहुंच पाया। ठगा हुआ महसूस कर रहे इस युवक ने अपनी पत्नी, उसके परिजनों तथा बिचौले रिश्तेदारों पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज करवाया है।
गजसिंहपुर पुलिस के मुताबिक चक 21 आरबी निवासी परमजीतसिंह पुत्र अंग्रेजसिंह की शादी 24 नवंबर 2000 को श्रीगंगानगर के गौरव पैलेस में राजवंतकौर उर्फ राजू पुत्री दर्शनसिंह निवासी 30 आरबी के साथ हुई थी। यह रिश्ता परमजीतसिंह के रिश्तेदारों ने ही तय करवाया था। शादी से पहले तय हुआ था कि राजवंतकौर विवाह के बाद परमजीतसिंह को अमेरिका अपने पास बुला लेगी। उसका पासपोर्ट तथा वीजा लगवा दिया जायेगा। विवाह से पहले परमजीतसिंह ने अपने पिता की चक 21 आरबी में लगभग 6 बीघा कृषि भूमि बेचकर बीस लाख रूपये राजवंतकौर के परिजनों को अपने रिश्तेदारों के समक्ष सौंपे। तब उसकी शादी हुई। राजवंतकौर विवाह के चार माह बाद वापिस अमेरिका चली गई।
पुलिस के अनुसार अमेरिका जाने के बाद राजवंतकौर वापिस नहीं आई। न ही परमजीतसिंह को अमेरिका अपने पास बुलाने की उसका पासपोर्ट बनवाया। उसके बीस लाख रूपये भी वापिस नहीं किये। यह आरोप लगाते हुए परमजीतसिंह ने हाल ही अदालत में इस्तगासा दायर किया। इसके आधार पर राजवंतकौर, उसके पिता दर्शनसिंह, मां छिंद्रपालकौर व रिश्तेदार मुखत्यारसिंह पुत्र जग्गासिंह और मुखत्यारसिंह की पत्नी सुरजीतकौर के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। इसकी जांच थानाप्रभारी विष्णु खत्री कर रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: