युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

30 अक्तूबर 2009

...नहीं तो केवी सिंह 20,000 से हारते-प्रताप

डबवाली (लहू की लौ) पूर्व विधायक प्रताप सिंह चौटाला ने कहा कि उसके बेटे रवि चौटाला के डबवाली विधानसभा सीट से आजाद लडऩे से कांग्रेस को ही लाभ हुआ है। चूंकि इससे इनेलो बूथ कैपचरिंग और जाली मतदान नहीं कर पाई। उनके अनुसार अगर रवि चौटाला चुनाव मैदान में न होता तो केवी सिंह 20,000 से भी अधिक मतों के अन्तर से हारता। उन्होंने यह भी कहा कि जो लोग डबवाली विधानसभा से कांग्रेस की टिकट के इच्छुक थे, उन्हें डॉ. केवी सिंह ने मतदान के कुछ दिन पूर्व पार्टी से निष्कासित करवाकर उचित कार्य नहीं किया। इससे निष्कासित नेताओं के समर्थक गुस्से में आ गये और उन्होंने भी केवी सिंह को हरवाने में अपनी अहम भूमिका निभाई।
उन्होंने यह भी कहा कि अगर मजबूत और पार्टी के सभी वर्गों को मान्य व्यक्ति कांग्रेस की सीट पर चुनाव मैदान में उतारा जाता तो वह अवश्य जीतता।

कोई टिप्पणी नहीं: