युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

03 सितंबर 2009

एलआईसी चण्डीगढ़ ने हांगकांग इलेवन को दी मात


सिरसा (लहू की लौ) जननायक चौ. देवीलाल विद्यापीठ के क्रिकेट ग्राउंड में प्रात: एलआईसी चंडीगढ़ व हांगकांग इलेवन के बीच मुकाबला हुआ। इस मुकाबले में एलआईसी चंडीगढ़ ने अपनी विरोधी टीम को 43 रनों से पराजित किया।
एलआईसी चंडीगढ़ ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय किया और निर्धारित 20 ओवरों में 9 विकेट खोकर हांगकांग की टीम के समक्ष 138 रन का लक्ष्य रखा। एलआईसी टीम के ओपनर शिवकांत व गुरिन्द्र सैनी ने अपनी टीम को ठोस शुरूआत दी और दोनों ने चारों ओर दर्शनीय शॉट लगाए। पहली विकेट शिवकांत के रूप गिरा जब वह 20 के निजी स्कोर पर था। शिवकांत ने चार चौकों की मदद से तेजी से 20 गेंदों में 20 रन बनाए और वह नजीब अमर की गेंद की गेंद पर गच्चा खाकर क्लीनबोल्ड हो गए। इसके बाद गुरिंद्र का साथ निभाने हरप्रीत सिंह आए और मध्यम गति के गेंदबाजों की धमकर धुनाई की। पर हरप्रीत सिंह ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं टिक सके और 12 गेंदों में 10 रन बना कर मुन्नीर अहमद की गेंद्र पर कॉट बिहाइंड हो गए। हांगकांग के कप्तान ने मध्यम गति के गेंदबाजों को पीटता देख स्पिनर को गेंद थमाई। स्पिनर कप्तान की अपेक्षाओं पर खरा उतरे और रनों पर अंकुश लगाने में कामयाब रहे। कप्तान अमित उनियाल अपनी टीम के लिए कुछ खास नहीं कर सके और वह मात्र 5 रनों के निजी स्कोर पर पवेलियन लौट गए। इसके बाद पांचवे बल्लेबाज राजेश पाठा भी दो रन बना कर चलते बने। उन्हें जावेद इकबाल ने आउट किया। गुरेंद्र सैनी ने तेजी से रन बटोरते रहे और उन्होंने 37 गेंदों में अर्धशतक पूरा कर लिया और 49 गेंदों पर 64 शानदार रन बनाए। वह टीम के कुल 120 रनों के स्कोर पर नजीब अमर के हाथों आउट हुए। गुरिंद्र सैनी ने अपनी पारी में 10 चौके जमाए। नवनीत सिंह ने 14 रन, रोहित चौधरी ने 2 रन व अविनाश यादव ने अविजित 8 रनों का योगदान दिया। हरप्रीत सिंह जूनियन व गुरविवेक सिंह अपना खाता ही नही ंखोल सके। नजीब अमर ने 4, नदीम अहमद व मुनीर अहमद ने दो-दो विकेट झटके।
138 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी हांगकांग की टीम के ओपनर तबरक दार व जावेद इकबाल ने अपनी टीम को मजबूती प्रदान करने का प्रयास किया मगर रोहित चौधरी ने तबरक दार को 12 रन पर आउट किया वहीं जावेद इकबाल भी ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं रहे और केवल 2 रन बनाकर चलते बने। उनके बाद बल्लेबाजी करने आए नाजिब अमर ने अभी केवल अपने खाते में महज 1 रन ही जोड़ा था कि उन्हें अमित उन्याल ने पैवेलियन की राह दिखाई। बट हुसैन भी केवल 6 रन के निजी स्कोर पर आउट हो गए उनका विकेट मनीष नैन ने लिया। उसके बाद क्रीज पर आए एम. अहमद व हासिब अमजद ने कुछ संभल कर खेलना शुरु किया मगर नवनीत सिंह ने एम अहमद को 8 रनों के निजी स्कोर पर आउट कर दिया। हासिब अमजद ने एक छोर पर खड़े रह कर कुछ अच्छे शॉट्स खेले और उन्होंने 29 गेंदों में 35 रन बनाए। इसमें 4 चौके व 1 छक्का शामिल था। दूसरे छोर पर नदीम अहमद ने कुछ हद तक हासिब अमजद का साथ दिया और उन्होंने 15 गेंदों में 16 रन बनाएं जिसमें 2 चौके शामिल थे। हासिब अमजद को गुरेंद्र सैनी ने जबकि नादिम अहमद को अविनाश यादव ने आउट किया। पुछल्ले बल्लेबाज बाबर हयात 4, अजहर इलाई 2 व आदिल खान व सईद ने 1-1 रन बनाया। हांगकांग की पूरी टीम 18.1 ओवर में कुल 94 के स्कोर पर सिमट गई।
इस मुकाबले के समापन पर वैज्ञानिक व जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक प्रो. कुलदीप सिंह ढींड़सा ने बतौर मुख्यातिथि विजेता टीम को पुरस्कार दिए। उन्होंने गुरिंद्र सैनी को मैन ऑफ दि मैच के रूप में 21 हजार रुपए व हासिब अमजद को सर्वाधिक छक्के लगाने के लिए 2 हजार रुपए का चैक प्रदान किया। इस अवसर पर विद्यापीठ के रजिस्ट्रार मेजर के.के. सिरोही, विद्यापीठ के स्पोट्र्स इंचार्ज मनमोहन सिंह व डॉ. जयप्रकाश मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं: