युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

29 जुलाई 2010

हवलदार का बेटा साथियों सहित लूट में काबू

डबवाली (लहू की लौ) लूट के मकसद से करनाल शहर से मंगलवार को किराये पर ली इनोवा कार (एचआर 05 यू 910) पडा़ेसी प्रांत राजस्थान के हनुमानगढ़ में मिली है। चालक से लूटकर भागते हुए पकड़े गये चारों युवक एक अंतर्राज्यीय लूट व मादक तस्करी गिरोह के सदस्य हैं तथा पंजाब के बठिंडा जिले के निवासी हैं। इनमें से एक का पिता बठिंडा ट्रैफिक पुलिस में हवलदार है। चारों को राजस्थान पुलिस ने पूछताछ के लिए 30 जुलाई तक रिमांड पर लिया है।
हनुमानगढ़ जंक्शन थाना प्रभारी संजय बोथरा ने बताया कि पकड़े गए लुटेरों में शामिल मनदीपसिंह उर्फ गौरखा पुत्र हरपालसिंह निवासी पथराला (बठिंडा) पूर्व में लगभग सवा किलो अफीम के साथ पकड़ा गया था तथा इन दिनों जमानत पर था। उन्होंने बताया कि मनदीपसिंह सहित पकड़े गये तीन अन्य सदस्य हरपालसिंह पुत्र चंदसिंह निवासी नरवाना, बठिंडा, बगडू उर्फ बलकौरसिंह पुत्र दलीपसिंह जटसिख और लखवीरसिंह उर्फ लखविंद्र उर्फ बोहड़सिंह पुत्र गुरदेवसिंह जटसिख निवासी पथराला के आपराधिक रिकॉर्ड का पता लगाने के लिए पुलिस दल को बठिंडा भेजा गया है। चारों युवक 19 से 25 वर्ष की आयु के हैं इन द्वारा कई वारदातें किये जाने की जानकारियां पुलिस को मिली हैं।
 उन्होंने बताया कि हरपालसिंह का पिता चंदसिंह पंजाब पुलिस में हवलदार है और उसकी तैनाती बठिंडा ट्रैफिक पुलिस में है। इसके अलावा इनमें से एक के विरूद्ध तलवंडी साबो थाने में हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज होने की जानकारी मिली है। बलकौर उर्फ बगडू को पिछले वर्ष संगरिया थाना क्षेत्र के गांव नगराना के एक बैंक में पड़ी डकैती के मामले में पूछताछ के लिए पकड़ा गया था। हालांकि बगडू इस डकैती में शामिल नहीं था लेकिन डकैती डालने वालों में से कइयों को वह जानता है।
थानाप्रभारी संजय बोथरा ने बताया कि कार लूट में पकड़े गए युवकों ने बताया कि उनके यार-दोस्तों के पास महंगी-महंगी गाडिय़ां हैं। वे भी ऐसी ही कोई गाड़ी रखना चाहते थे। इसके लिए काफी रूपये चाहिये थे पेसौ  का बंदोबस्त नहीं होने के कारण उन्होंने किराये पर गाड़ी लेकर चालक से लूट  की योजना बनाई। उन्होंने कार चालक को कहा कि वे खिलाड़ी हैं व हनुमानगढ़ में खेलने के लिए जाना है। पुलिस ने बताया कि युवक चालक को राजस्थान में फैंककर पुन: पंजाब जाना चाहते थे ताकि हरियाणा व राजस्थान पुलिस माजरा न समझ सके। इन्होंने बहाने से इनोवा को नवां गांव के करीब कार को  रूकवाया और चालक जयभगवान को चलती गाड़ी से सड़क पर फैंक दिया। इसी दौरान मोटरसाइकिल पर आ रहे दो युवकों ने यह हरकत देखी तो उन्होंने मोबाइल से हनुमानगढ़ पुलिस कंट्रोल रूम को फोन करते हुए पीछा किया। मानकसर गांव के पास इनोवा दो ट्रैक्टर ट्रॉलियों से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इसमें सवार चारों जने खेतों की तरफ भागने लगे तो युवकों ने शोर मचाकर ग्रामीणों को एकत्रित किया तथा उनकी मदद से चारों को काबू कर लिया। बाद में वहां पहुंची पुलिस को यह चारों जने सौंप दिये। पुलिस ने बताया कि लूटने के बाद इनोवा को लखवीर उर्फ लखविंद्र चला रहा था। इन चारों के कोई चोट नहीं आई, लेकिन गाड़ी को काफी नुकसान पहुंचा। चालक जयभगवान के कुछ चोटें आई हैं। करनाल निवासी चालक जयभगवान पुत्र दारासिंह की शिकायत के आधार पर राजस्थान पुलिस ने इन चारों युवकों के विरूद्ध हत्या का प्रयास तथा लूट के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

कोई टिप्पणी नहीं: