युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

29 जुलाई 2010

बैटन क्वीन मशाल 26 सितम्बर को हरियाणा पहुंचेगी, सुरक्षा चाक चौबंद

सिरसा। हरियाणा के गृह, उद्योग एवं खेल राज्यमंत्री  गोपाल कांडा ने कहा कि विभिन्न देशों से गुजर कर राष्ट्रमंडल खेलों की जलती हुई मशाल बैटन क्वींन 26 सितम्बर को हरियाणा में प्रवेश करेगी जिसका सिरसा के डबवाली में स्वागत किया जाएगा। सिरसा में मशाल के सदस्य रात्री विश्राम करेगें तथा शहीद भगत सिहं स्टेडियम में उनके सम्मान में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होगा। मशाल राजस्थान के हनुमानगढ़ जिला के संगरिया कस्बा से हरियाणा में प्रवेश करेगी। प्रदेश के खेल राज्य मंत्री गोपाल कांडा 29 सितम्बर को इस मशाल को दिल्ली सरकार को सौंपेगे। श्री कांडा आज सिरसा में लोगों की शिकायतें सुनने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि आगामी तीन अक्तूबर से दिल्ली में शुरु होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों के लिए हरियाणा के खिलाड़ी बिल्कुल तैयार है और इन्हें पूरी तरह प्रशिक्षित किया गया है। उन्हें आशा है कि राष्ट्रमंडल खेलों में भारत की तरफ से जीतने वाले मैडलों में हरियाणा के खिलाडिय़ों के सर्वाधिक पदक होंगे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा के बीजेंद्र सिंह और साइना नेहवाल को ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है। इन दोनों का संबंध चूंकि हरियाणा से है वे इन दोनों को खिलाडिय़ों को खेल विभाग की ओर से व प्रदेश की जनता की ओर बधाई देते है। उन्होंने कहा कि बीजेंद्र  तो हरियाणा के रहने वाले और साइना नेहवाल का भी लंबे समय तक हरियाणा से संबंध रहा है। उन्होंने कहा कि बीजेंद्र और साइना नेहवाला को ब्रांड एंबेसडर बनाने से प्रदेश के खिलाडिय़ों में और उत्साह होगा। उन्होंने कहा कि विदेशी मेहमानों की आवभगत करने के लिए हरियाणा पूरी तरह तैयार है और इसके लिए पर्यटन विभाग द्वारा आठ हजार के लगभग सैट तैयार किए गए है जहां विदेशी मेहमान रुक पाएंगे। उन्होंने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से भी हरियाणा पुलिस विभाग द्वारा पुख्ता प्रबंध किए गए है और जो भी उपकरण राज्य सरकार द्वारा केंद्र सरकार से मांगे गए थे वो सभी हरियाणा पुलिस को प्राप्त हो चुकेे है और इन उपकरणों के प्रयोग के लिए हरियाणा पुलिस के अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के जो खिलाडी देश की तरफ से राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेंगे उन्हें भी प्रशिक्षण शिविरों में पूरी तरह प्रशिक्षित किया गया है।
खेल राज्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए विशेष खेल नीति के तहत कई योजनाएं शुरु की है जिनमें ग्रामीण क्षेत्रों में खेल स्टेडियमों का निर्माण करवाना और प्रदेश में स्पैट टेलेंट हंट योजना का शुरु किया जाना शामिल है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों  में 170 से भी अधिक खेल स्टेडियमों का निर्माण करवाया गया है। प्रत्येक स्टेडियम के निर्माण पर 50 से 70 लाख रुपए की राशि खर्च की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: