युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

19 मार्च 2010

कीड़ेमार दवा मिले होने के संदेह में पेयजल आपूर्ति रूकवाई

डबवाली (लहू की लौ) गांव सुकेराखेड़ा में गांव के वाटर वक्र्स की डिग्गी के पानी में कीड़ेमार दवा मिले होने की आशंका को लेकर बवाल उठ खड़ा हो गया। जिसके चलते फिलहाल जनस्वास्थ्य विभाग ने पेयजल की आपूर्ति रोक दी है।
गांव सुकेराखेड़ा की सरपंच पार्वती देवी के पति ओमप्रकाश ने बताया कि नरेगा के तहत गांव के वाटर वक्र्स के पास खाल सफाई का काम चल रहा है। बुधवार शाम को करीब 5 बजे नरेगा मजदूरों ने वाटर वक्र्स की डिग्गी से एक व्यक्ति को कीड़ेमार दवाई के ड्रम से पानी लेजाते हुए देख लिया। इसकी सूचना उन्होंने उसे दी और उसने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दे दी। मौका पर पुलिस ने पहुंचकर पानी की आपूर्ति रूकवा दी। इधर इसकी सूचना पाकर वीरवार को गांव के पूर्व सरपंच पवन मैहता, तोता राम, गगनदीप, मदन लाल, साहब राम मौका पर पहुंचे और उन्होंने मौके की नजाकत को देखते हुए इसकी सूचना जनस्वास्थ्य विभाग के सुपरवाईजर गणेशी लाल चौटाला को दी। गणेशी लाल ने मौका पर पहुंचकर ग्रामीणों को आश्वासन दिलाया कि पानी के सैम्पल लेकर टैस्ट के लिए प्रयोगशाला में भेजे जाएंगे। जब तक प्रशासनिक अधिकारी पेयजल आपूर्ति के आदेश नहीं देते, तब तक गांव में पेयजल की आपूर्ति जनहित में रोके रखी जाएगी। गणेशी लाल ने यह भी बताया कि अक्सर ग्रामीण बिजली न होने के कारण वाटर वक्र्स की डिग्गियों से पानी भरते रहते हैं। संभव है कि किसी ने डिग्गी से पानी भरा हो और मजदूरों को प्रयुक्त किया गया ड्रम कीड़ेमार दवाई का होने का संदेह हुआ हो।

कोई टिप्पणी नहीं: