युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

16 सितंबर 2009

डबवाली विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी


केवी या गदराना
डबवाली (लहू की लौ) चुनावी मौसम की बरसात लगभग अब जाने वाली है और बरसाती मेंढकों का टर्र-टर्राना भी लगभग बन्द हो चुका है। कांग्रेस टिकट का यहां सवाल है मामला बताते हैं कि सोनिया के दरबार में जा पहुंचा है। टिकट की दौड़ में भले ही एक दर्जन के करीब पार्टी के कार्यकर्ता सक्रिय थे। लेकिन फिलहाल यह दौड़ केवल डॉ. के.वी. सिंह और कुलदीप गदराना एडवोकेट के बीच में सिमट गई लगती है। दिल्ली से मिली जानकारी अनुसार कुलदीप गदराना टिकट के लिए राहुल के दरबार में भी हाजरी लगा चुके हैं। इधर डॉ.केवी सिंह के लिए मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा प्रयासरत हैं। लेकिन सोनिया के दरबार में डॉ. केवी सिंह का विरोधी गुट अपनी पूरी ताकत झोंककर इस प्रयास में है कि किसी भी सूरत में केवी सिंह को टिकट न मिले। जानकार सूत्रों के अनुसार इधर इनेलो में पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला के परिवार का कोई भी सदस्य डबवाली से चुनाव लडऩे में रूचि नहीं दिखा रहा। इनेलो भी चाहती है कि डॉ. केवी सिंह को टिकट न मिले, ताकि इनेलो का मुकाबला कांग्रेस के ऐसे प्रत्याशी से हो जिसकी डबवाली हल्का के लोगों से कोई विशेष जान-पहचान न हो। बताया जाता है कि पिछले दिनों जब अजय सिंह चौटाला के बेटे दुष्यंत सिंह चौटाला ने डबवाली नगर का दौरा किया तो कार्यकर्ताओं ने उन्हें दो टूक शब्दों में कहा कि डबवाली से चौटाला परिवार का ही कोई सदस्य चुनाव मैदान में उतारा जाये, ताकि यहां से जीत सुनिश्चित हो सकें। कार्यकर्ताओं ने अपनी इच्छा से अवगत करवाते हुए कहा कि डबवाली से ओमप्रकाश चौटाला स्वयं चुनाव लडें।

कोई टिप्पणी नहीं: