युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

13 नवंबर 2014

खाद की कमी, किसानों ने किया पंजाब का रूख

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली में खाद के नाम पर एक बैग भी नहीं है। जबकि जरूरत 80 हजार बैग की है। ऐसे में किसान पड़ौसी राज्य पंजाब पर निर्भर हो गये हैं। बुधवार को पंजाब से तीन ट्रालियों में भरकर जा रही खाद को उपमंडल कृषि अधिकारी ने पकड़ लिया। किसानों ने खाद के बिल पेश कर दिये। जिसके बाद खाद को छोड़ दिया गया।
घर द्वार पहुंचाने की योजना अधर में
किसानों के घर द्वार तक खाद पहुंचाने का जिम्मा हैफेड का है। जिसे वह पैक्स के जरिये निभाती है। हर वर्ष डबवाली क्षेत्र के लिये करीब एक लाख बैग की जरूरत होती है। इस वर्ष पैक्स की ओर से एडवाईज न किये जाने पर हैफेड ने खाद नहीं खरीदी। पहले से पड़ी खाद के करीब बीस हजार बैग को उठवा दिया। स्टॉक खाली है। अब हैफेड सिरसा तथा ऐलनाबाद पर निर्भर हो गई है। वहां पड़ी खाद को डबवाली में खपा देना चाहती है। मंगलवार शाम को अबूबशहर स्थित पैक्स में जमकर बवाल हुआ। किसान धरना देने की तैयारी में थे। इसी दौरान कृषि विभाग के एसडीई रामेश्वर दास मौका पर पहुंच गये। किसानों की शिकायत पर उन्होंने गांव सकताखेड़ा खरीद केंद्र पर दबिश दी। वहां सेल्जमैन मंदर सिंह दारू पीता हुआ मिला। एसडीई को देखकर मौका से फरार हो गया। वहां खाद के करीब 248 बैग स्टॉक रजिस्टर के हिसाब से कम मिले।
पंजाब से खाद खरीदने को मजबूर किसान : इधर किसान खाद के लिये पड़ौस राज्य पंजाब पर निर्भर हो गये हैं। बुधवार को गांव चौटाला के किसान सोहन लाल, राजू, कुलदीप सिंह, भरत राम तथा जगदीश ने पंजाब में खाद की खरीद की। किसान तीन ट्रालियों में खाद भरकर लेजा रहे थे। इसी दौरान कृषि विभाग के अधिकारियों ने उन्हें पकड़ लिया। पूछताछ में किसानों ने बताया कि डबवाली में खाद नहीं मिल रही। जिसके चलते उन्हें मजबूरीवश पंजाब का रूख करना पड़ा है। किसानों ने खाद के बिल पेश कर दिये। जिस पर विभाग ने उन्हें छोड़ दिया। तीनों ट्रालियों में किसानों के 446 बैग थे।
हफ्ते बाद खाद आने की उम्मीद : पैक्सों की ओर से मांग न होने पर इस बार हैफेड भी हाथ पर हाथ धरे बैठा रहा। जिसकी वजह से हैफेड के गोदाम खाली हैं, वहीं किसानों के आगे समस्या पेश आ रही है। बताया जा रहा है कि एक हफ्ते बाद डबवाली में इफ्को का रैक लगेगा। एक साथ 66 हजार बैग खाद आयेगी। सवाल उठ रहा है कि तब तक किसान कहा जाएंगे। प्रशासन के लचर प्रबंधन के चलते इस बार किसान पंजाब जाने को मजबूर हो रहे हैं।

किसानों को आ रही दिक्कत
डबवाली में सात पैक्स हैं। सीजन सिर पर होने के बावजूद पैक्स ने एडवाईज नहीं भेजी। जिसके चलते किसानों को दिक्कत आ रही है। फिलहाल हैफेड के पास एक बैग भी नहीं है। सिरसा तथा ऐलनाबाद से खाद उठाकर दी जाएगी।
-ख्याली राम, इंचार्ज, खाद कार्यक्रम, हैफेड डबवाली

मेरे पास अबूबशहर पैक्स का अतिरिक्त चार्ज है। अब एडवाईज भेज दी गई है। गलती दोबारा नहीं होगी। नशे में धुत्त मिले सेल्जमैन तथा कम मिले बैग के बारे में जांच की जा रही है। -श्रवण कुमार, मैनेजर, पैक्स, डबवाली

जब मैं वहां पहुंचा तो सेल्जमैन मंदर सिंह शराब पी रहा था। मुझे देखते ही वह लघुशंका का बहाना करके वहां से भाग गया। खरीद केंद्र पर 248 बैग खाद कम मिली है।
-रमेश्वर दास, एसडीई, कृषि विभाग, डबवाली

कोई टिप्पणी नहीं: