युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

13 नवंबर 2014

भाजपाई बोले खत्म करो अभियान, एसडीएम ने कहा ऐसा नहीं हो सकता

अतिक्रमण के खिलाफ हल्ला बोल अभियान में एसडीएम के साथ आई मातृ शक्ति

अभी नहीं तो कभी नहीं

अतिक्रमण जाम तथा हादसों की मुख्य वजह बना हुआ है। हल्ला बोल अभियान के खिलाफ अब भाजपा ने सिर उठाया है। शहर की सबसे बड़ी समस्या पर क्या भाजपा नेताओं का यह चरित्र सही है। लिख भेजिये अपनी राय, हम देंगे आपकी आवाज को बल। मोबाइल नं. 098145-23743


डबवाली (लहू की लौ) अतिक्रमण के खिलाफ चल रहे हल्ला बोल अभियान के तीसरे दिन मुख्य बाजार में जमकर हंगामा हुआ। दुकानदारों ने एसडीएम सतीश कुमार के साथ चल रहे समाजसेवियों पर तंज कसते हुये दूषित तथा सबसे बड़े अतिक्रमणकारी करार दिया। एक दुकानदार ने ऐसे समाजसेवियों का जूते मारने की बात कह दी। पलटवार करते हुये समाजसेवी ने इसका जवाब गाली से दिया। जिससे बखेड़ा खड़ा हो गया, भाजपा नेता भी लड़ाई में कूद गये। प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
सुबह 10 बजे एसडीएम सतीश कुमार ने हल्ला बोल अभियान के तीसरे दिन की शुरूआत की। एसडीएम के साथ मातृ शक्ति भी उतर आई। नारी शक्ति संस्था की संस्थापिका प्रेमकांता आहुवालिया, उर्मिल जौड़ा, सुदेश पाहूजा, अमरजीत कौर, सुरजीत कौर सहित समाजसेवी वियोगी हरि शर्मा, शशिकांत शर्मा, सतीश जग्गा, सर्वजीत सिंह, मुकेश कामरा, कर्ण कामरा, नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी, एमई जयवीर डुडी, सफाई निरीक्षक अविनाश सिंगला, भवन निरीक्षक सुमित ढांडा ने दुकानदारों के आगे हाथ जोड़कर अतिक्रमण हटाने के लिये कहा। जैसे ही अभियान गति पकडऩे लगा दुकानदार विरोध में उतर आये। जैसे ही एसडीएम ने दुकानदार सुरेंद्र कुमार को थहड़े से बर्तन हटाने के लिये कहा तो सुरेंद्र कुमार तथा रमेश कुमार ने एसडीएम के साथ चल रहे समाजसेवियों पर तंज कस दिये। दुकानदार ने ऐसे समाजसेवियों के जूते मारने की बात कही। जिसका जवाब एक समाजसेवी ने गाली से दिया। एसडीएम दुकानदारों के आगे हाथ जोड़कर अतिक्रमण समाप्त करने की बात कहते हुये आगे बढ़ गये।
नारेबाजी करते हुये एसडीएम का घेराव किया : भाजपा के जिला महामंत्री विजय वधवा, डबवाली मंडल अध्यक्ष मनोज शर्मा, धर्मवीर सिंगला के नेतृत्व में दुकानदार नारेबाजी करते हुये एसडीएम के पीछे आ गये। दुकानदारों ने एसडीएम का घेराव कर लिया। एक दुकानदार ने एसडीएम को धक्का मारकर समाजसेवी के गाली निकालने का कारण पूछा। जिस पर एसडीएम भी उखड़ गये। उन्होंने दुकानदार के धक्का मारने का कारण पूछा। भाजपा के जिला महामंत्री विजय वधवा ने एसडीएम से अभियान को समाप्त करने के लिये कहा। लेकिन एसडीएम ने दुकानदारों के बीच अभियान समाप्त न करने से साफ इंकार कर दिया।
बीच चौराहे एसडीएम ने पूछे दुकानदारों से सवाल :एसडीएम सतीश कुमार ने बीच चौराहे पर अभियान का विरोध कर रहे भाजपा नेताओं तथा दुकानदारों से ही सवाल पूछ डाले। उन्होंने कहा कि यह शहर किसका है?, अतिक्रमण से ज्यादा तकलीफ किसको होती है? क्या अतिक्रमण के खिलाफ मेरा तरीका गलत है? कानून के अनुसार आप गलत हो, हाथ मैं जोड़ रहा हूं, क्या यह गलत है? किसी भी भाजपा नेता तथा विरोध कर रहे दुकानदार ने प्रश्नों का उत्तर नहीं दिया।
सुबह 9 बजे बुलाई बैठक
एसडीएम सतीश कुमार ने विरोध कर रहे भाजपा नेताओं तथा दुकानदारों से कहा कि अगर किसी को गिला-शिकवा है, शिकायत है वह सुनने के लिये तैयार हैं। एसडीएम ने इसके लिये वीरवार को सुबह 9 बजे कार्यालय में आने के लिये कहा।

99 प्रतिशत लोग मेरे साथ
शहर के 99 प्रतिशत लोग मेरे साथ हैं। राजनीतिक कारणों या साथ चले रहे लोगों से द्वेष भावना के कारण विरोध किया जा रहा है। जो अनुचित है। अगर किसी को शिकायत है, तो वे सीधा उसे बताये। किसी से ज्याददती नहीं होगी। अतिक्रमण के खिलाफ अभियान जारी रहेगा।-सतीश कुमार एसडीएम, डबवाली

कोई टिप्पणी नहीं: