युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

16 नवंबर 2014

नेशनल किक की तैयारी


प्रतिभा का सम्मान : नेशनल खेलने पर पढ़ाई के नाम पर एक पाई नहीं लेगा स्कू
डबवाली (लहू की लौ) यहां की तीन बेटियों का चयन नेशनल स्तर पर फुटबाल प्रतियोगिता के लिये हुआ है। आगामी दिसंबर माह में होने जा रही प्रतियोगिता में तीनों अपनी किक से देश को नचाने के लिये तैयार हैं। विपरीत परिस्थितियों के बावजूद तीनों सुबह-शाम कड़ा अभ्यास कर रही हैं। बेटियों की मेहनत पर स्कूल भी फिदा है। अब पढ़ाई के लिये स्कूल एक पैसा भी इन बेटियों से नहीं लेगा।
खालसा सीनियर सैकेंडरी स्कूल में 11वीं कक्षा में पढऩे वाली छात्रा मनप्रीत कौर की आयु 16 वर्ष है। फुटबाल के अंडर-19 वर्ग में खेलते हुये इसी वर्ष अक्तूबर माह में ब्लाक, जिला तथा प्रदेश स्तर पर खेली। फुटबाल में मुख्य स्टॉपर की भूमिका में रहने वाली इस खिलाड़ी ने हिसार में हुई प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन करके चयनकर्ताओं को अपनी ओर खींचा और नेशनल के लिये प्रदेश की टीम में जगह बनाई। गांव नीलियांवाली की रहने वाली इस खिलाड़ी का कहना है कि वह फुटबाल में एक शानदार प्लेयर बनना चाहती है। वह स्कूल समय में नेशनल के लिये मेहनत कर रही है। गांव में खेल सुविधाएं न होने की वजह से वह वहां अभ्यास नहीं कर पा रही। मनप्रीत ने दिसंबर माह में गोवा में होने जा रही नेशनल प्रतियोगिता में भाग लेना है।
इसी विद्यालय की 10वीं कक्षा में पढऩे वाली अंजलि सियाल की उम्र महज 13 वर्ष है। फुटबाल अंडर-17 वर्ग में खंड, जिला तथा प्रदेश स्तर पर खेलने के साथ-साथ नेशनल के लिये क्वालिफाई किया है। फुटबाल में सेंटर फारवर्ड रहकर विरोधी टीम पर प्रहार के लिये अंजलि हमेशा तैयार
 कहना है कि उसके पिता खेल प्रशिक्षक हैं। समय-समय पर पिता से गुर सीखती रहती हूं। साथ में टीवी पर फुटबाल मैच दे रहती है। अंजलि दिसंबर माह में मणिपुर में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय फुटबाल प्रतियोगिता में भाग लेगी। अंजलि काखकर अपनी गलतियों को सुधार रही हूं। मेरा सपना प्लेयर बनना है। खालसा सीनियर सैकेंडरी स्कूल की 7वीं कक्षा में पढऩे वाली हरवीर कौर का चयन फुटबाल अंडर-14 के लिये हुआ है। खंड, जिला तथा प्रदेश स्तर पर खेलने के बाद अब हरवीर गुवाहटी में खेलने जायेगी। 12 वर्षीय इस खिलाड़ी का कहना है कि वह फुटबाल प्लेयर बनना चाहती है। इसके लिये वह जी तोड़ मेहनत कर रही है। राईट फारवर्ड पर खेलने वाली इस खिलाड़ी का कहना है कि अपने खेल गुरू से बारीकियां सीख अपनी खेल शैली को धारधर बना रही है।

ये बेटियां हैं कमाल
नेशनल लेवल पर खेलने जा रही तीनों बेटियों का पढ़ाई में भी कोई सानी नहीं है। मैदान में फुटबाल को किक लगाने वाली तीनों लड़कियों हर बर मेरिट लिस्ट में अपना नाम लिखवाती हैं। इन बेटियों के खेल गुरू राजन ने बताया कि नेशनल स्तर पर चयनित इन खिलाडिय़ों को निरंतर अभ्यास करवाया जा रहा है। तीनों खिलाडी बेहतरीन हैं। खंड, ब्लाक तथा प्रदेश स्तरीय मुकाबलों में हुई गलतियों को दूर किया जा रहा है। डबवाली क्षेत्र के लिये गौरव की बात है कि तीन लड़कियां फुटबाल में अलग-अलग आयु वर्ग में नेशनल खेलने जा रही हैं।


मुफ्त शिक्षा मिलेगी
खालसा सीनियर सैकेंडरी स्कूल के प्रिंसीपल गुरतेज सिंह ने बताया कि नेशनल खिलाड़ी को विद्यालय में मुफ्त शिक्षा दी जाती है। तीनों खिलाडिय़ों को भी नि:शुल्क शिक्षा दी जायेगी। पढ़ाई के नाम पर एक पाई भी उनसे वसूल नहीं की जायेगी।

कोई टिप्पणी नहीं: