युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 जुलाई 2011

दादू की पंचायत ने किया सरकारी स्कूल का निरीक्षण, कक्षा में नहीं मिले छात्र

कालांवाली (संजीव सिंगला) ग्राम पंचायत दादू द्वारा राजकीय उच्च विद्यालय में अध्यापकों द्वारा बरती जा रही अनियमितताओं व खराब परीक्षा परिणाम को लेकर विद्यालय का औचक्क निरीक्षण किया।  अध्यापकों द्वारा कक्षाएं न लगाए जाने पर विद्यार्थी इधर-उधर घूम रहे थे।
मुख्याध्यापक अपने कार्यालय में बैठकर आराम कर रहा था। पंचायत ने चेतावनी दी कि अगर शीघ्र ही विद्यालय के अनुशासन में सुधार न किया गया और अध्यापकों द्वारा ड्युटी में कोताही बरती गई तो स्कूल को ताला जड़ देंगे। राजकीय उच्च विद्यालय दादू का परीक्षा परिणाम खराब आने व ड्युटी समय से पहले घर चले जाने की शिकायत पंचायत को कई बार मिली है।
इसको लेकर सरपंच दलीप सिंह के नेतृत्व में आज विद्यालय का ओचक्क निरीक्षण किया तो अध्यापक कक्षाओं से नादारद मिले। 6वी , 7वीं, 8वीं व 10वीं की कक्षाओं में कोई भी अध्यापक उपस्थित न होने पर अध्यापकों को खुब खरी खोटी सुनाई। पंचायत द्वारा हाजिरी रजिस्टर का निरीक्षण किया गया तो एक कर्मचारी द्वारा हाजिरी ही नहीं लगाई गई थी। पंचायत ने मिड डे मील का भी निरीक्षण किया तो पता चला कि पिछले एक सप्ताह से मिड डे मील ही नहीं बनाया गया। और अध्यापकों द्वारा आंधी से गिरे पेड़ों की कटाई करवाकर कमरे में रखी हुई थी।
पंचायत ने आरोप लगाया कि पेड़ की कटाई करके मिड डे मील बनवाया जाना था। उधर प्राईमरी स्कूल का निरीक्षण करने पर पता चला कि लड़कियों के प्राइमरी स्कूल में स्टाफ छुट्टी पर होने पर छात्राओं को लड़कों के प्राईमरी स्कूल में ही बिठा रखा था। पंचायत ने बताया कि इस बार 10वीं का परीक्षा परिणाम 46 प्रतिशत ही रहा जबकि पिछले वर्ष 100 प्रतिशत परीक्षा परिणाम आया था। अध्यापकों द्वारा कक्षाओं से नादारद रहने व स्कूल की छुट्टी के समय से पहले ही घर चले जाने से विद्यालय का माहौल खराब हो रहा है। पंचायत ने स्टाफ को चेतावनी दी अगर समय पर स्कूल व अनुशासन में सुधार न किया तो स्कूल को ताला जड़ देंगे। इस अवसर पर उनके साथ पंचायत सदस्य सुखदेव सिंह, डिप्टी सिंह, चरणजीत सिंह, जोगिंद्र सिंह, वकील सिंह व अन्य पंचायत सदस्य उपस्थित थे।
इस बारे में जिला शिक्षा अधिकारी कुमकुम ग्रोवर से बात की तो उन्होने कहा कि उनके पास कोई ऐसी शिकायत नहीं आई फिर भी वह मिड डे मील न बनने व अध्यापकों के कोताही बरतने की मामले की जांच की जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: