युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

02 जुलाई 2010

सीएम को धौंस भरा ई-मेल भेजने का आरोपी अदालत में पेश

मुझे षडयंत्र के तहत फंसाया जा रहा है-नवदीप
डबवाली (लहू की लौ) फर्जी ई-मेल आईडी बनाकर हरियाणा के मुख्यमंत्री एवं मुख्य सचिव को धौंस भरा मेल भेजने के आरोप में गिरफ्तार किए गए चौ. देवीलाल मैमोरियल इंजीनियरिंग कॉलेज के इलेक्ट्रोनिक्स विभाग के प्रवक्ता नवदीप को डबवाली के डयूटी मजिस्ट्रेट तथा उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी महावीर सिंह की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने 10 हजार रूपए के निजी मुचलके पर आरोपी को जमानत दे दी।
चौधरी देवीलाल इंजीनियरिंग कॉलेज, पन्नीवाला मोटा के डायरेक्टर डॉ. डीएस मोर के पास चंडीगढ़ से शिक्षा विभाग के निदेशक का एक पत्र आया। इस पत्र के जरिए विभागीय स्तर पर डॉ. मोर से टिप्पणी मांगी गई कि आपने विभाग के पास अपनी ईमेल आईडी से जो मैसेज भेजे हैं उस संदर्भ में आप का क्या कहना है? निदेशक का पत्र मिलने के बाद डॉ. मोर सकते में आ गए और उन्होंने तत्काल इस बात की जांच करवाई तो मालूम हुआ कि उनके नाम पर फजी ईमेल आईडी तैयार की गई है और इसी के जरिए यह संदेश भेजा गया है। डॉ. मोर ने इस मामले की शिकायत सिरसा के एसपी से की। एसपी सतेंद्र कुमार गुप्ता ने मामले की जांच का जिम्मा डबवाली के डीएसपी बाबूलाल को सौंपा।
डीएसपी बाबूलाल ने बताया कि फर्जी ई-मेल आईडी डीएसमोर.कॉम.डीईडीएसएम एटदरेट याहू.कॉम के नाम से बनाई गई और उससे जो मैसेज भेजा गया है वह मैं डॉ. मोर इंजीनियिरिंग कॉलेज का डायरेक्टर हूं और यहां का सर्वेसर्वा हूं, जो इच्छा होती है वही करता हूं, मुझे कोई टोकने या पूछने वाला नहीं।Ó इसके अलावा भी कुछ और मैसेज भी इस ईमेल के जरिए भेजे गए थे।
मामले की जांच कर रहे डीएसपी बाबूलाल ने बताया कि डॉ. मोर की शिकायत पर ओढ़ां थाना पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। इनमें से एक हिसार के लघुसचिवालय परिसर में रहने वाली महिला तथा हिसार में सहायक कृषि अधिकारी कविता है। जबकि दूसरा आरोपी हिसार के आदर्श नगर कॉलोनी का रहने वाला सतीश है। जोकि हिसारं में कम्प्यूटर सैन्टर चलाता है। इनके खिलाफ आईपीसी 469 के तहत केस दर्ज किया गया था। उन्होंने बताया कि पुलिस ने बीएसएनएल कार्यालय से ईमेल की डिटेल निकलवाई तो मालूम हुआ कि उक्त आरोपियों ने हिसार से डॉ. मोर के नाम पर फर्जी ईमेल आईडी बनाकर मेल किए थे। ये मेल 13 मार्च 2010 और 9 अप्रैल 2010 को मैसेज भेजे गए थे। जांच के दौरान शक की सूई कॉलेज में ही इलेक्ट्रोनिक्स विभाग के प्रवक्ता नवदीप पर आकर अटक गई। जोकि कविता के पति हैं।
डीएसपी बाबू लाल स्वयं हिसार गए और उन्होंने नवदीप को दबोच लिया। मंगलवार को आरोपी नवदीप को उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी एवं डयूटी मजिस्ट्रेट डबवाली महावीर सिंह की अदालत में पेश किया। अदालत ने नवदीप को 10,000 रूपए के निजी मुचलके पर जमानत पर रिहा कर दिया।
जमानत पर रिहा होने के बाद इस संवाददाता से बातचीत करते हुए लेक्चरर नवदीप ने बताया कि उस पर किसी षडयंत्र के तहत उपरोक्त झूठा केस बनाया गया है। उसने अपना तर्क देते हुए कहा कि उसके घर 14 अप्रैल को बीएसएनएल ब्रॉडबैंड का इंटरनेट कनेक्शन लगा है। जबकि उस पर आरोप 13 मार्च तथा 9 अप्रैल को ई-मेल भेजने का है। उन्होंने कॉलेज के डायरेक्टर/प्रिंसीपल डॉ. डीएस मोर के खफा होने के सम्बन्ध में बताया कि वह अन्य कॉलेज प्रवक्ताओं के साथ मिलकर अपने अधिकारों के लिए संघर्षरत है। कॉलेज का डायरेक्टर तानाशाही नीति अपनाकर उस पर यह झूठा केस बनवाकर उनकी आवाज को दबाना चाहता है। लेक्चरार ने यह भी बताया कि वह पिछले सात वर्षों से इसी कॉलेज में लेक्चरार है। इससे पूर्व उस पर कोई भी दाग नहीं है। लेकिन दो वर्ष पूर्व कॉलेज का कार्यभार डॉ. डीएस मोर ने संभाला और वह तभी से उसके साथ-साथ अन्य लेक्चरार से भी खार खाता है।
चौधरी देवीलाल इंजीनियरिंग कॉलेज, पन्नीवाला मोटा के डायरेक्टर डीएस मोर ने उपरोक्त आरोपों पर कोई भी टिप्पणी करने से साफ इंकार किया।

कोई टिप्पणी नहीं: