युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

13 अप्रैल 2010

बादल के घर में बिजली कर्मचारियों का प्रदर्शन

डबवाली (लहू की लौ) पंजाब राज्य बिजली बोर्ड टेक्नीकल सर्विस यूनियन कार्यकर्ताओं ने निजीकरण के खिलाफ मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के पैतृक गांव बादल में बोर्ड के एक्सीयन कार्यालय पर जोरदार प्रदर्शन करके और धरना देकर रोष प्रकट किया।
टेक्नीकल सर्विसज यूनियन बादल मंडल के प्रधान सुन्दर पाल ने बताया कि पंजाब सरकार ने बिजली एक्ट बना कर बिजली बोर्ड को तीन भागों में फैसला लिया है। जो कि कर्मचारी और लोग विरोधी है। उन्होंने कहा कि बिजली कर्मचारियों ने संकल्प लिया है कि वह प्रत्येक कुर्बानी देकर भी बोर्ड की रक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि निजीकरण के विरोध में 15-16 अप्रैल की दो दिवसीय हड़ताल के दौरान कामकाज ठप्प कर और दफ्तर बन्द रख कर सरकार को यह संदेश दिया जायेगा कि बोर्ड को किसी भी हालत में टूटने नहीं दिया जायेगा।
इस मौके पर मंडल नेताओं में सतपाल, सुखदर्शन सिंह, सुखदेव सिंह, हरदेव सिंह, जंगीर सिंह ने भी धरना पर बैठे कर्मचारियों को सम्बोधित किया। इस मौके पर उपमंडल नेता प्रकाश चन्द, भजन सिंह, जगवीर सिंह और अजायब सिंह, निरपाल सिंह, जगतार सिंह ने आरोप लगाया कि पंजाब सरकार द्वारा हर रोज भयभीत करने वाले ब्यान दागे जा रहे हैं और नेताओं का नक्शा बिगाड़ कर पेश किया जा रहा है। लेकिन बिजली कर्मचारी ट्रेड यूनियन के असूलों की पालना करते हुए हड़ताल के सफल बनाने के लिए सक्रिय हो गये हैं। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार जब्र जुल्म के द्वारा बोर्ड तोड़ती है तो बिजली कर्मचारियों को हड़ताल को आगे बढ़ाने के लिए तैयार रहना चाहिए।
धरनास्थल पर पहुंचे नायब तहसीलदार लम्बी लखविन्द्र सिंह गिल की मार्फत पंजाब सरकार के पास मांग पत्र भेजा गया। इस मौके पर मंच का संचालन मंडल सचिव सतपाल कर रहे थे। तीन घंटे चले धरने के बाद बिजली कर्मचारियों ने पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए बिजली मंडल कार्यालय से लेकर 132 केवी ग्रिड तक रोष प्रदर्शन किया।

कोई टिप्पणी नहीं: