युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

27 नवंबर 2013

शिनाख्त के लिए नम्बरदार ने मांगे 5000, एसडीएम ने बिठाई जांच
नम्बरदार ने आरोपों को नकारा, तहसीलदार परमजीत सिंह चहल करेंगे मामले की जांच
डबवाली (लहू की लौ) एक नम्बरदार पर वसीयत पर शिनाख्त के लिए पांच हजार रूपए मांगने का मामला सामने आया है। शिकायत के आधार पर उपमण्डलाधीश ने तहसीलदार को जांच सौंपी है।
वार्ड नं. 16 निवासी अजायब सिंह पुत्र जंगीर सिंह ने उपमण्डलाधीश को दी शिकायत में कहा है कि उसने अपनी जायदाद की वसीयत अपने पौत्रे जबरजंग सिंह, जगमीत सिंह के हक में करवानी थी। दस्तावेज तैयार करवाने के बाद नम्बरदार नरेन्द्र जोईया को वसीयत पर शिनाख्त करने के लिए कहा। उसने 5000 रूपए की मांग की। नम्बरदार ने कहा कि अगर उसे पैसे नहीं दिए तो वह वसीयत नहीं होने देगा। जिस पर उसने तथा उसके लड़के गुरमीत सिंह ने 2500 रूपए की राशि उक्त नम्बरदार को दी। राशि लेने के बावजूद भी उसने वसीयत पर शिनाख्त नहीं की। उसने गांव डबवाली के नम्बरदार जगरूप सिंह की वसीयत पर शिनाख्त करवाई और अपने पोतों के हक में वसीयत रजिस्टर्ड करवाई।
यह भी लगाया आरोप
शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में यह भी आरोप लगाया कि करीब एक माह पूर्व उसके नजदीकी मित्र संदीप निवासी सिरसा की जमानत ऐलनाबाद की अदालत में चल रहे फौजदारी मुकदमें में करवानी थी। शिनाख्त करने के लिए उपरोक्त नम्बरदार ने 5000 रूपए की मांग की थी। उसके मना करने पर वह 2500 रूपए मांगने लगा। एक सप्ताह तक टालमटोल करने के बाद ऐलनाबाद में जाकर उसकी शिनाख्त की। शिकायतकर्ता ने शिकायत में एक मूवी का जिक्र भी किया है। जिसमें नम्बरदार को पैसे मांगता दिखाया है। शिकायतकर्ता ने उपरोक्त नम्बरदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
उधर नम्बरदार नरेन्द्र जोईया के अनुसार उस पर लगाए जा रहे आरोप निराधार हैं। अजायब सिंह ने उससे 2000 रूपए उधार लिए थे। उसने उन्हीं पैसों की मांग की थी।
उपमण्डलाधीश सतीश कुमार ने बताया कि शिकायत उनके पास आई है। जांच का कार्य तहसीलदार परमजीत सिंह चहल को सौंपा गया है। जांच अधिकारी की रिपोर्ट के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: