युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

24 जुलाई 2010

सद्भावनानगर गोलियों से गूंजा, हिस्ट्रीशीटर माणासिंह घायल

दिनदहाड़े बदमाशों में गोलीबारी से दहशत
श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर का सद्भावनानगर आज दोपहर एकाएक गोलियों की आवाजों से गूंज उठा, जब दो बदमाश आमने-सामने हो गए। इनमें कुख्यात अपराधी एवं हिस्ट्रीशीटर माणासिंह  गोलियों के छर्रे लगने से जख्मी हो गया, जबकि उस पर गोलियां चलाने वाला बदमाश प्रवृत्ति का गुरचरणसिंह व उसका एक साथी माणासिंह का मोटरसाइकिल लेकर ही फरार हो गए। इन दोनों को पकडऩे के लिए पूरे शहर में तत्काल नाकाबंदी करवा दी गई। घायल माणासिंह के बयान के आधार पर कोतवाली पुलिस हत्या का प्रयास किए जाने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर रही है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार माणासिंह पुत्र सज्जनसिंह दोपहर करीब एक बजे मोटरसाइकिल (आरजे 13 एसबी 1653) पर सवार होकर अपने घर सद्भावनानगर जा रहा था। घर के समीप वह ताराचंद की दुकान के पास पहुंचा ही था कि इतने में स्कूटर पर आए गुरचरणसिंह व उसके एक साथी ने माणासिंह को रोक लिया। इन तीनों में हाथापाई हुई। तभी गुरचरणसिंह व उसके साथी ने देसी कट्टे निकाल लिए। तब माणासिंह भाग खड़ा हुआ। वह अपने घर की तरफ भागा। उस पर गुरचरणसिंह और उसके साथी ने दो-तीन फायर कर दिए। हालांकि अपुष्ट सूत्रों के अनुसार माणासिंह के पास भी कोई हथियार था। उसने इसका उपयोग किया या नहीं, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई। पुलिस सूत्र बताते हैं कि भागते हुए माणासिंह को अपना बचाव करने का मौका ही नहीं मिला। उधर गुरचरणसिंह व उसका साथी स्कूटर छोड़कर माणासिंह द्वारा वहीं छोड़े गए मोटरसाइकिल को लेकर भाग गए।
दिनदहाड़े गोलियां चलने की आवाजों से सद्भावनानगर में दहशत फैल गई। कुछ ही देर में पुलिस की गाडिय़ां दनदनाते हुए पहुंचीं। घटनाक्रम की जानकारी लेकर शहर की नाकाबंदी करवा दी गई। बताया गया कि दोनों हमलावर किस नंबर के मोटरसाइकिल पर सवार हैं। इसी बीच माणासिंह को अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसके एक कान तथा पेट पर गोलियों के छर्रे लगे हैं। उसकी हालत खतरे से बाहर है। सेतिया कॉलोनी पुलिस चौकी प्रभारी गुरूभूपेन्द्र सिंह ने बताया कि माणासिंह ने बयान दर्ज करवा दिए हैं, जिसमें उसने अपने ऊपर हुए हमले का कोई कारण नहीं बताया। इस बारे में तफ्तीश करने पर ही पता चलेगा। हमलावरों पर हत्या का प्रयास करने के आरोप में धारा 307 और आम्र्स एक्ट में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।
कुख्यात अपराधी माणासिंह पर हत्या, लूटपाट, डकैती, मादक पदार्थों की तस्करी, छीना-झपटी और मारपीट के अनगिनत मामले हैं। वर्ष 2008 के बहुचर्चित बाबा निर्वाण कुटिया के एचएस दुखिया हत्याकाण्ड में माणासिंह के गिरफ्तार होने पर उसके घर से काफी मात्रा में मादक पदार्थ भी बरामद हुए थे। अभी कुछ दिन पहले ही माणासिंह मादक पदार्थ रखने के इस मामले में पुलिस अनुसंधान में कमियों के चलते अदालत से बरी हो गया था। एचएस दुखिया हत्याकाण्ड में वह हाल ही जमानत पर रिहा हुआ था।

कोई टिप्पणी नहीं: