युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

29 अक्तूबर 2009

आयकर सर्वे की कार्यवाही से हड़कंप मचा

श्रीगंगानगर। आयकर विभाग से बीस से अधिक अधिकारियों-कर्मचारियों के तीन दलों द्वारा आज दोपहर स्थानीय गोल बाजार से केदार चौक के समीप एक होटल तथा सोडा वाटर फैक्ट्री-रेस्टोरेंट पर अचानक सर्वे की कार्यवाही प्रारंभ करने से अन्य व्यवसायियों में हड़कंप मच गया। आयकर विभाग के एक दल ने इन दोनों प्रतिष्ठानों के मालिक के गांधीनगर स्थित निवास एवं गोदाम पर भी सर्वे की कार्यवाही शुरू की। केदार चौक के समीप राज जीरा सोडा वाटर-रेस्टोरेंट तथा इसी प्रतिष्ठान के सहयोगी होटल राज शेयटर्न पर जैसे ही सर्वे के लिए आयकर विभाग के दलों के पहुंचने की जानकारी मिली, इस मार्केट के दुकानदारों में खलबली मच गई। मार्केट के बड़े व्यवसायियों ने अपने खाते-बही इधर-उधर कर दी। उधर राज सोडा वाटर-रेस्टोरेंट एवं राज शेयटर्न होटल में पहुंचते ही आयकर दलों ने लोगों की आवाजाही बंद कर दी और दोनों प्रतिष्ठानों के बही खातों, कम्प्यूटरों को खंगाला प्रारंभ कर दिया। यह दल अपने साथ पुलिस को भी लेकर आये थे। दोनों प्रतिष्ठानों का मालिक एक ही है, जिसके गांधीनगर स्थित निवास तथा गोदाम पर भी सर्वे की कार्यवाही करने के लिए आयकर विभाग का दल पहुंचा। विभाग के संयुक्त आयुक्त अमित निगम के अनुसार यह सर्वे इस प्रतिष्ठान द्वारा दाखिल की गई। आयकर रिटर्न के सत्यापन के लिए की जा रही है। संस्थान के बही खाते तथा अन्य दस्तावेजों को प्राप्त किया जा रहा है। इनकी छानबीन कर आय का आंकलन किया जाएगा। जिसका रिटर्न से मिलान किया जाएगा। शाम को समाचार लिखे जाने तक राज सोडा वाटर तथा राज शेयटर्न होटल पर सर्वे की यह कार्यवाही जारी थी। दोनों प्रतिष्ठानों की लॉबी में पुलिस ने डेरा डाला हुआ था। उल्लेखनीय है कि नागपाल परिवार ने लगभग तीन दशक पहले राज जीरा के नाम से सोडा वाटर की लघु फैक्ट्री लगाई थी, जिसका अब कारोबार उत्तर भारत के कई शहरों में फैला हुआ है। हाल ही इस परिवार ने इसी फैक्ट्री के साथ आलीशान होटल बनाया है। इस होटल की भव्यता लगता है आयकर विभाग को खटकने लगी थी।

कोई टिप्पणी नहीं: