युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

15 नवंबर 2014

21 सदस्यों वाली होगी शहर की विधानसभा

    वार्ड बंदी के बाद की स्थिति
  1. एससी आरक्षित 4,6,15,19
  2. एससी महिला आरक्षित 5,18
  3. बीसी आरक्षित 16,21
  4. महिला आरक्षित 1,2,7,13,17
  5. सामान्य 3,8,9,10,11,12,14,20


डबवाली (लहू की लौ) शहर की विधानसभा में अब 21 जनप्रतिनिधि जनता की आवाज उठाने के लिये पहुंचेंगे। शुक्रवार को नगर परिषद कार्यालय में एडहॉक कमेटी की बैठक में नई वार्ड बंदी पर मुहर लग गई। ड्रा सिस्टम के जरिये अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग सहित महिला जनप्रतिनिधियों के वार्ड आरक्षित कर दिये गये। इस रिपोर्ट को मुख्यमंत्री की स्वीकृति के बाद सार्वजनिक किया जायेगा।
वार्ड बंदी के लिये दोपहर करीब 12 बजे स्थानीय शहरी निकाय विभाग हरियाणा के अतिरिक्त निदेशक रणवीर पराशर की अध्यक्षता में बैठक शुरू हुई। जिसमें एडहॉक कमेटी सदस्य एसडीएम सतीश कुमार, नायब तहसीलदार छोटू राम, नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी, विनोद बांसल, सुरिंद्र छिंदा, रमेश बागड़ी, सुभाष मित्तल, मधु बागड़ी ने भाग लिया। लंबी चली बैठक में वार्डबंदी के लिये पूर्व में आयोजित हुई दो बैठकों में कमेटी सदस्यों के एतराज को दूर किया गया। पिछली बैठक में कमेटी सदस्य सुरिंद्र छिंदा के वार्ड नं. 1 को पिछड़ा वर्ग के लिये आरक्षित करने के एतराज पर स्पष्टीकरण देते हुये अतिरिक्त निदेशक ने कहा कि वार्ड नं. 1 तथा 21 का पुन: सर्वे करवाया गया। वार्ड नं. 1 की अपेक्षा 21 में पिछड़ा वर्ग की जनसंख्या अधिक मिली। इसलिये वार्ड नं. 1 को पिछड़ा वर्ग से निकाल दिया गया है। सदस्य सुभाष मित्तल के एतराज को दूर करते हुये बैठक अध्यक्ष ने कहा कि नई बनी ड्राईंग के आधार पर पिछली गलतियों से छुटकारा मिल गया है। गलियों को व्यवस्थित ढंग से संबंधित वार्ड से जोड़ दिया गया है। सदस्य विनोद बांसल के एतराज को दूर करते हुये जनसंख्या का पूर्व अवलोकन किया गया है। जिसके बाद वार्डों की जनसंख्या में थोड़ी-बहुत फेरबदल हुई है।
एडहॉक कमेटी सदस्यों के एतराज को दूर करने के बाद अतिरिक्त निदेशक ने वार्ड बंदी का प्रस्ताव रखा। वार्ड नं. 7 तथा 17 से एक-एक वार्ड बनाये जाने से वार्डों की संख्या 19 से 21 कर दी गई। 21 वार्डों में से सर्वाधिक एससी जनसंख्या वाले छह वार्डों को आरक्षित कर दिया गया। महिला आरक्षित दो वार्डों के लिये महिला सदस्य मधु बागड़ी ने ड्रा सिस्टम के जरिये पर्ची निकाली। एससी के लिये आरक्षित वार्डों का चयन होने के बाद पिछड़ा वर्ग (बीसी) के लोगों की सर्वाधिक जनसंख्या वाले दो वार्डों को बीसी के लिये आरक्षित करने की घोषणा की गई। शेष 13 सामान्य वार्डों में सामान्य महिला के लिये पांच आरक्षित वार्डों का चयन भी ड्रा सिस्टम के जरिये किया गया। इस बार भी पर्ची मधु बागड़ी ने उठाई।

वार्ड बंदी का कार्य पूरा, यूं चलेगी प्रक्रियाएडहॉक कमेटी की बैठक में वार्डबंदी फाइनल हो गई है। रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री की मुहर लगते ही अधिसूचना जारी कर दी जायेगी। अधिसूचना विभाग की वेबसाईट के अतिरिक्त नगर परिषद कार्यालय, उपमंडलाधीश कार्यालय में चस्पा की जायेगी। पंद्रह दिनों के भीतर एतराज मांगे जाएंगे।

वर्ष 2003-04 के बाद वार्ड बंदी
वर्ष 2004 में नगरपालिका डबवाली के चुनावों से पूर्व 2011 की जनसंख्या के आधार पर वार्ड बंदी की गई थी। जिसके आधार पर वार्ड की संख्या 17 से 19 हो गई थी। इस वार्ड बंदी के तहत ही वर्ष 2008 में नगरपालिका चुनाव हुये थे। पार्षदों का कार्यकाल मार्च 2014 में पूरा हो चुका है। वार्ड बंदी के लिये पहली बैठक 1 अक्तूबर 2013 को हुई थी, 24 मई 2014 को दूसरी बैठक हुई। दोनों बैठकों में वार्ड बंदी का कार्य सिरे नहीं चढ़ पाया था। आज पुन: हुई वार्ड बंदी में वार्डों की संख्या 21 हो गई।

48 नपा/नप की वार्डबंदी प्रक्रिया में
हरियाणा की 48 नगरपालिकाओं/नगर परिषद में वार्ड बंदी का कार्य प्रक्रिया में है। चुनाव आयोग हरियाणा ने 14 दिसंबर 2014 तक वार्ड बंदी का कार्य पूर्ण करने के लिये कहा है। मई 2015 में प्रदेश की 39 नगरपालिकाओं के चुनाव होने तय हैं। डबवाली नगर परिषद के चुनाव इसके बाद हो सकते हैं।
-रणवीर पराशर, अतिरिक्त निदेशक,
स्थानीय शहरी निकाय विभाग, हरियाणा

हम तैयार
वार्डबंदी फाइनल हो चुकी है। अंतिम निर्णय आते ही मत बनाने की प्रक्रिया शुरू होगी। चुनाव के लिये प्रशासन तैयार है।
-सतीश कुमार
एसडीएम, डबवाली

कोई टिप्पणी नहीं: