युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

17 फ़रवरी 2011

मेंढक बना पांच सौ मीटर दौड़ाया


बाल मंदिर सीनियर सैकेंडरी स्कूल मंडी किलियांवाली के बच्चों को कक्षा से बाहर आने की मिली सजा
डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार को बाल मंदिर सीनियर सैकेंडरी स्कूल मंडी किलियांवाली के डीपीई द्वारा विद्यार्थियों को प्रताडि़त करने के आरोप में बुधवार सुबह विद्यालय के बाहर अभिभावकों ने हो-हल्ला किया तथा प्रिंसीपल के समक्ष अपना रोष जताया।
मंगलवार को 7वीं कक्षा के ए सैक्शन का अंग्रेजी का प्रथम पीरियड लगा हुआ था। अंग्रेजी की अध्यापिका पिंकी मैहता को लगा कि अगले पीरियड के लिए घंटी बज चुकी है, अध्यापिका ने कक्षा को छोड़ दिया। विद्यार्थी कक्षा से बाहर आ गये। प्रिंसीपल ने विद्यार्थियों का शोरगुल सुन कर उनको कार्यालय में बुला लिया और डीपीई मनमोहन सिंह को सौंप दिया।
अभिभावक मनीष गर्ग, राजीना, रोजी, रवि बांसल ने बताया कि उनके बच्चे असीम गर्ग, ललित, गुरजोत, निखिल ने मंगलवार शाम को छुट्टी के बाद घर आकर बताया कि डीपीई मनमोहन सिंह ने उन्हें आज बुरी तरह से प्रताडि़त किया। प्रताडऩा के तौर पर उन्हें मेंढ़क बना कर 500 मीटर दौड़ाया, 100 बार उठ-बैठ करवाई, 15 मिनट तक मुर्गा बना कर पिछले बच्चे से आगे वाले बच्चे के हाथ खिंचवाये। इसके बाद हाथ खड़े करवा कर डंडों से भी पीटा।
अभिभावकों ने बताया कि उनके बच्चों का कोई कसूर नहीं था। इसके बावजूद भी उन्हें प्रताडि़त किया गया। इतनी बुरी सजा के चलते उनके बच्चे रात भर सो नहीं सके। इस मामले को लेकर बुधवार को वह स्कूल प्रिंसीपल से मिलने के आये। लेकिन पिं्रसीपल के स्कूल में न होने पर उन्होंने रोष स्वरूप स्कूल के गेट के आगे रोष प्रकट किया। इसके चलते पिं्रसीपल एमएस देवगुण भी पहुंच गये। उन्होंने उनसे इस संबंध में अपना रोष जताया। डीपीई के खिलाफ उचित कार्यवाही की मांग की।
डीपीई मनमोहन ङ्क्षसह ने माना कि उसने बच्चों को 300 मीटर मेंढक रेस लगवाई, 10-10 पुशअप करवाये और एक-एक डंडा भी मारा। लेकिन उसने तो बच्चों को सुधारने के लिए यह पग उठाया था। अध्यापिका पिंकी मैहता ने बताया कि उसका अंग्रेजी का पीरियड था और कक्षा की घड़ी पर 10.05 होने पर उसे लगा कि अगला पीरियड शुरू हो चुका है इसलिए 3-4 बच्चे कक्षा से बाहर आ गये थे।
इस संबंध में स्कूल पिं्रसीपल एमएस देवगुण ने कहा कि बच्चों के कक्षा से बाहर आने पर अनुशासन भंग हुआ और उनके शोर से अन्य कक्षाएं प्रभावित हुईं, जो ठीक नहीं था। लेकिन डीपीई द्वारा बच्चों को शारीरिक सजा देना भी गुनाह है। इसकी पुनरावृत्ति न हो उन्होंने डीपीई से लिखित रूप में लेकर अन्य अध्यापकों के पास भी सर्कुलेट भेजा है कि वह किसी भी बच्चे को प्रताडि़त न करें। उन्होंने कहा कि बच्चों को अभिभावकों द्वारा दिये जाने वाला ओवरप्रोटक्शन भी बच्चे के विकास में बाधा है। उनके अनुसार टीवी और कंप्यूटर बच्चों को शारीरिक रूप से दब्बू बना रहा है, बच्चों को शारीरिक एक्सरसाईज करवाई जानी जरूरी है इसके लिए विद्यालय में अलग से शारीरिक शिक्षा देकर बच्चों को फिट बनाया जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: