युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

30 मई 2010

ब्लू फिल्म की क्लीपिंग से युवा हो रहे हैं पथ भ्रष्ट

डबवाली (लहू की लौ) इंटरनेट और मोबाइल पर धड़ल्ले से चलने वाली डबवाली कांड नामक ब्लू फिल्म की क्लीपिंग इतनी लोकप्रिय हो चुकी है कि एक इंटरनेट कैफे पर यह क्लीपिंग जोरशोर से दिखाई जा रही है। जबकि पुलिस फिलहाल न तो इस कैफे को ढूंढ़ सकी है और न ही इसकी जांच को लेकर कड़ा रूख अख्तियार कर पाई है। प्राप्त जानकारी अनुसार पिछले तीन दिनों से डबवाली कांड नामक अश्लील क्लिपिंग चर्चा का विषय बनने के साथ-साथ युवाओं को पथ भ्रष्ट करने में भी अपनी भूमिका अदा कर रही है। चूंकि इस ब्लू फिल्म को इंटरनेट पर एक मिनट 12 सैकेंड की दिखाई गई है और मोबाइल पर यहीं क्लीपिंग दो भागों में 6 मिनट 24 सैकेंड की है। हालांकि कहा तो यह भी जा रहा है कि इस फिल्म की ब्लू सीडी एक घंटा से ऊपर की है। बताया जा रहा है कि यह क्लिपिंग भी बाजार में उतारी जा चुकी है। एक साईबर कैफे पर तो 20 रूपये लेकर दिखाई जा रही है। प्रशासन इस संबंध में फिलहाल सुस्त नजर आ रहा है।  इस सन्दर्भ मेंं जब डबवाली के डीएसपी बाबू लाल से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि अपराधी का पता लगाया जा रहा है कि किसने इसको तैयार किया और फिर मोबाइल और इंटरनेट पर डाऊनलोड किया। जब उनसे पूछा गया कि क्या इसकी जांच के दौरान किसी व्यक्ति को पूछताछ के लिए हिरासत मेें लिया गया है तो उनका कहना था कि फिलहाल पुलिस को इसका सिरा नहीं मिल पाया है।
स्कूल के विद्यार्थियों में भी इस क्लिपिंग को लेकर भी उत्सुकता बढ़ रही है जिसके चलते इस क्लिपिंग के विद्यार्थियों के मोबाइल पर पहुंच जाने से उनके मार्ग से भटक जाने का खतरा पैदा हो गया है। अगर समय रहते इस पर नियंत्रण स्थापित न किया जा सका तो यह समाज के लिए अहित कर साबित होगी।

कोई टिप्पणी नहीं: