युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

27 मार्च 2010

पाकिस्तान की खुफिया एजेन्सी आईएसआई की नजर अब हरियाणा पर!

- आईएसआई ने डबवाली के तस्करों को बनाया अपना गुर्गा
- सिरसा और प्रदेश की पुलिस ले रही है केन्द्रीय खुफिया एजेन्सियों से मदद
डबवाली (लहू की लौ) कश्मीर और पंजाब के बाद अब आईएसआई के निशाने पर हरियाणा भी शामिल हो गया है। इस सम्बन्ध में सिरसा पुलिस को महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे हैं। जिस पर पुलिस अपनी कार्यवाही कर रही है।
प्राप्त जानकारी अनुसार केन्द्रीय सतर्कता ब्यूरो के सहयोग से हरियाणा पुलिस आईएसआई के लिए काम करने वाले एक ऐसे गिरोह के गिरेबां तक पहुंच चुकी है। जो राज्य को तबाही की कगार पर लेजाने के मंसूबे बना रहा था। यह राज भी फिल्मी ढंग से खुला और पुलिस अपने सूत्रों के द्वारा ऐसे लोगों तक पहुंच करने में सफल रही। इस पूरे मामले को अभी तक भी गोपनीय रखा जा रहा है। हालांकि यह मामला करीब एक सप्ताह पूर्व उजागर हो चुका है। गुप्त सूचना के अनुसार हरियाणा पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति को सिरसा क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। जो आईएसआई के लिए काम करने वाले लोगों को जाली आईडी पर सिम कार्ड मुहैया करवाता था। इस सिम कार्ड को भी पकडऩे में पुलिस सफल रही है। यह भी पता चला है कि आईएसआई अपने काम को अंजाम देने के लिए तस्करों का सहारा ले रही है। इस तस्कर गिरोह का क्षेत्र केवल हरियाणा ही नहीं बल्कि पंजाब, चण्डीगढ़ भी है। सूचना के अनुसार जाली आईडी पर सिम लेने वाले इन तथाकथित तस्करों का सम्बन्ध आईएसआई से सीधे ही जुड़ा हुआ है। इस बात की पुष्टि पुलिस को सिम कार्ड से किये गये फोन नम्बरों से मिल चुकी है। यह भी बताया जा रहा है कि हरियाणा को बर्बाद करने के प्रयास की साजिश रचने वाले इस गिरोह के साथ हरियाणा के एक बड़े राजनेता का भी नाम सामने आ रहा है। यहीं कारण है कि गहराई से मामले की जांच की जा रही है और पुलिस का कोई भी अधिकारी इस सम्बन्ध में मुंह खोलने के लिए तैयार नहीं है।
उम्मीद है कि शीघ्र ही इस गिरोह का सार्वजनिक पर्दाफाश हो जाएगा और अपनी काली करतूतों की वजह से पूरे विश्व में बदनाम पाकिस्तान की खुफिया एजेन्सी आईएसआई का भेद फिर से संसार के समक्ष होगा। यहीं नहीं बल्कि वे राजनेता भी सामने आ सकते हैं, जो इस गिरोह को सरंक्षण दे रहे थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आईएसआई से सम्बन्ध रखने वाले इस तस्कर गिरोह का सम्बन्ध डबवाली क्षेत्र के कई तस्करों से है।
बताया जा रहा है कि आईएसआई ने इस क्षेत्र को इसलिए भी अपना केन्द्र बनाया है कि पिछले करीब दो वर्षों से यह क्षेत्र डेरा-सिक्ख विवाद का केन्द्र बना हुआ है। इसी विवाद की आड़ में आईएसआई भी हरियाणा में अस्थिरता पैदा करना चाहती है। आईएसआई के नापाक मंसूबों के उजागर होने के बाद हरियाणा पुलिस अलर्ट हो गई है और भारत की केन्द्रीय एजेंसियां भी सतर्क हो गई हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: